चुदासी गर्लफ्रेंड की चुदास शांत की

Hindi sex story aur sexstoriesHD के सभी पाठकों को मेरा नमस्कार। मै आपको अपनी प्रथम चूदाई की कहानी बता रहा हूँ। यह मेरी गर्लफ्रेंड की गुलाबी चूत की पहली बात चूदाई की हिंदी कहानी है।
सभी अपने मन को शांत कर लें क्योंकि अब सब का लंड उत्तेजित होने वाला है।

यह बात है आज से 2 साल पहले की, जब मै 12वीं मे पढ़ता था। मै बहुत ही जोशीला हूँ। किसी भी मस्त लड़की को देखकर मेरा लंड फुंफकार मारने लगता था।

बारहवीं क्लास के 6 महीने बीत चूके थे और मेरा लंड अब चूत की तलाश मे था। कोशिश करने पर एक पटाखा मुझे पट गई, बस फिर क्या। शुरू हो गया गर्लफ्रेंड के संग प्यार का खेल।

वो तो पहले से ही मुझसे पटने को राजी थी लेकिन मैने ही कभी उस पर ध्यान नहीं दिया था। अब मै उससे रोज मिलता था और रोज उसको प्यार करता था।

मेरी गर्लफ्रेंड बहुत प्यारी थी। उसको ना तो बहुत गोरी ओर सांवली कहा जा सकता। बस वो एक अनछुई कली थी। उसने भी अपनी जवानी मे कदम रखा ही था। उसका बदन एकदम गद्दे की तरह मांसल था। पतली तो नहीं थी, लेकिन बहुत मोटी भी नहीं थी। एक भरे हुए जिस्म की मलिका थी।

उसे भी कभी-कभी बहुत गर्मी चढ़ती थी, तो फोन पर ही गर्म हो जाती और कहती कि मिलने आ जाओ। आज मै तुम्हारी प्रतीक्षा करूँगी।
लेकिन मै मजबूर था। मै तो रात को कहीं जा नहीं सकता। पापा जो रात-रात भर जागते रहते हैं।

लेकिन यह तय हो गया था कि मिल कर चूदाई करनी है, तो अब हम दोनों मौके की तलाश मे रहने लगे। जब भी थोड़ा सा भी मौका मिलता तो तुरंत चूमना शुरू हो जाता। मै उसके भरे हुए मम्मों को खूब मसलता। पूरे 32 इंच के चूचे थे उसके। बहुत रसीले थे।

एक दिन मेरे घर मे कोई नहीं था और हमे मौका मिल गया, मैने उसे कॉल करके अपने घर बुला लिया।
उसने मुझसे कहा- तुम मुझे मेरे घर के पास से ले लो।
मै उसे उसकी बताई जगह पर लेने गया।

वो एक सफेद टॉप और काली जीन्स पहने हुए एक बॉम्ब लग रही थी। मैने वहीं पर उसे जोर से एक स्मूच किस किया और बाइक पर बिठा कर अपने घर ले आया।

गर्मी का मौसम था। मैने तुरंत अपने कपड़े बदल कर बॉक्सर पहन लिया और कूलर चला कर उसे भी बिठा दिया।
थोड़ा आराम करने के बाद दोनों ने आइसक्रीम खाई और एक-दूसरे को चूम्मियां भी करते रहे।

सभी लोग जानते होंगे कि जब कोन आइस्क्रीम हो तो लास्ट मे चॉकलेट के लिए कितनी मेहनत करनी पड़ती है। उसने जल्दी से वो चॉकलेट अपने होंठों मे दबा ली। मैने भी तुरंत उसके होंठों से होंठ मिला दिए और चॉकलेट काटने लगा। इस छीना झपटी मे उसका होंठ काट गया। लेकिन बिना इसकी परवाह किए हम दोनों एक-दूसरे को बेतहाशा चूमने लगे। सब कुछ भूल गए।

मैने उसके टॉप को उसके बदन से अलग कर दिया। उसके दूध ब्रा से आधे बाहर झाँक रहे थे। मैने देर ना करते हुए उसकी दोनों चूचियों अपने हाथों मे भर लिया और उसको माथे से चूमते हुए नीचे आने लगा।

अब तक मैने उसकी ब्रा भी निकाल दी थी। उसकी ब्रा खुलते ही मै तो समझो पागल हो गया।उसकी गोलाइयां देख कर मेरा दिमाग पागल सा हो गया।

मैने जी भर के उसकी दोनों चूचियो को बारी-बारी से खूब चूसा। इतना अधिक चूसा कि दोनों मम्मों को बिल्कुल लाल कर दिया।
यह हिंदी चूदाई कहानी आप सेक्स स्टोरीज hd डॉट कॉम पर पढ़ रहे हैं!

अब वो जोर-जोर से साँसें ले रही थी। मै जींस के ऊपर से ही उसकी चूत को रगड़ रहा था। कुछ पल बाद मैने उसकी जीन्स भी उतार दी।
हय। क्या चूदासी लग रही थी। लाल और काली धारीदार पैंटी मे एक इंग्लिश माल लग रही थी।
मैने उसकी चूत को रगड़ते हुए उसकी पैंटी को भी उतार दिया। अह। देखा तो छोटी सी एकदम साफ़ गुलाबी चूत चमक रही थी।

मैने पूछा तो उसने बताया मेरे कॉल करने के बाद ही उसने चूत की झांटों की सफाई की थी।

मुझसे रहा नहीं गया और तुरंत उसकी चूत पर चूम्मियों की बरसात कर दी। वो आँखें बंद करके मज़े ले रही थी। उसकी चूत से बहुत पानी आ रहा था। वो अपनी गांड जो कि 32 इंच की होगी। उठा-उठा कर चूत चूसाई के मज़े ले रही थी।

इधर मेरा लंड भी फटा जा रहा था। मैने उसका हाथ पकड़ कर लंड पर रखा और आगे-पीछे करने लगा। साथ ही मै उसकी चूत भी मसले जा रहा था। उसकी गदराई चूचियों को भी बारी-बारी से चूस रहा था। अब वो बहुत गर्म हो चूकी थी। मुझे भी अब सही समय लगा और मै उसके ऊपर आ गया।

मैने लंड को उसकी गुलाबी चूत के छेद पर फिट किया और जैसे ही जोर लगाया तो लंड फिसल गया। दो बार ऐसे ही हुआ। क्योंकि जैसे ही मै धक्का मारता वो हिलने लगती।
जब लंड घुसने मे नाकाम हो गया तो वो हंसने लगी।
मुझे गुस्सा आ गया। फिर मैने भी बिना कुछ सोचे उसको कंधों को पकड़ लिया। लंड को निशाने पर लगा कर बिना उसकी कुछ सुने, बस धकेलता गया। वो चीखते हुए मुझे पीछे को हटाती रही। मैने एक भी ना सुनी।

बाद मे देखा तो मेरी बनियान मे खून लग गया था। उसने भी मेरी पीठ पर नाखूनों से खून निकाल दिया।

फिर उसके सामान्य होने पर धीरे-धीरे चूदाई शुरू हो गई। पहला दौर तो 3 मिनट ही चला। मैने बिना लंड को चूत से बाहर निकाले दूसरा दौर शुरू कर दिया। अबकी बार 20 मिनट तक खूब चोदा और दोनों साथ मे ही झड़ गए। इसके बाद कुछ देर तक दोनों ने आराम किया। और थक कर सो गए। शाम को 4 बजे नींद खुली तो फिर दोनों शुरू हो गए और एक बार जम कर चूदाई हुई।

इसके बाद उसने खुद को साफ किया और मेरे लंड को भी साफ़ किया। उसके बाद वो अपने घर चली गई।

इसके बाद तो जैसे उसके लिए मै पक्का चोदू हो गया था। मैने उसकी गुलाबी चूत को बहुत बार चोदा। वो फिर कभी बताऊंगा।

मेरी हिंदी चूदाई कहानी आपको कैसी लगी, ज़रूर बताएं।

Add a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *