loading...

मामी को चोदा प्यार से 

दोस्तो, मेरा नाम अजय है, मेरी उम्र 22 साल है.

यह मेरी पहली कहानी है अगर कोई गलती हो तो माफ़ करना!

मैं पिछली छुट्टियों में अपने मामा के घर गया था. मामा की शादी को 5 साल हो गए हैं, उनके एक बेटा है. मेरी मामी की उम्र 30 साल है और क्या लगती हैं वो… उनका फिगर 34-32-36 का है.

मैं उनके घर गया तो मामी ने दरवाज़ा खोला.
क्या लग रही थी वो… मामी मुस्कुरा रही थी… उन्होंने मुझे अंदर बुलाया फिर पानी पिलाने जैसे ही झुकी तो उनके बोबे के दर्शन हो गए, मज़ा आ गया.
मैं बाहर से आया था और पसीने पसीने हो गया था इसलिये बाथरूम में नहाने चला गया. मामा के घर में एक ही बाथरूम है, मैं नहाने के लिए जैसे ही बाथरूम में घुसा, वहाँ मामा मामी की पेंटी टंगी थी, मैं मामी की पेंटी हाथ में लेकर चाटने लगा, फिर कपड़े उतार और उनकी पेंटी में मुठ मारने लगा. थोड़ी देर में मैंने सारा माल पेंटी में छोड़ दिया और पेंटी को साफ़ करके टाँग दी, थोड़ी देर बाद में नहाकर बाहर आ गया.
थोड़ी देर में मामा घर आ गए. हमने थोड़ी देर बातचीत की और खाना खा कर सो गए.
सुबह मामा ने कहा- दिन में मैं अपनी ससुराल जाऊंगा, तुम चलोगे?

तो मैंने मना कर दिया.

दिन में मामी ने मेरा खाना बना कर मामा के साथ चली गई.

मैंने खाना खाया और टीवी देखने लगा.
तभी मैंने देखा कि मामी की अलमारी खुली है तो मैंने उसके खोला अंदर हाथ डाला तो एक बॉक्स मिला उसके अंदर कुछ सी डी, मामी का रेजर और रुई पाउडर वगैरा मिली. मैंने पहले सीडी चैक की, वो सब ब्लू फ़िल्म थी, देख कर मेरा लंड खड़ा हो गया. मैं समझ गया कि मामी काफी कामुक प्रवृति की हैं, मैंने मामी को चोदने की कोशिश करने की ठान ली.
फिर मैंने मामी का रेजर लिया और अपनी झांट के बाल काटे, फिर मैंने बॉक्स अंदर रख दिया.
रूम में उनके कपड़े रखे थे, मैंने उनका ब्लाउज और पेटीकोट उठाया और सूंघने लगा, उनमें से खुशबू आ रही थी.

फिर मैं बाहर गया, तार पर उनके कपड़े सूख रहे थे, ब्लाउज के नीचे उनकी ब्रा लटकी थी, मैंने ब्रा उतारी और बाथरूम से उनकी पेंटी ले आया फिर उनको पहन कर मुठ मारी और मज़े किये.
उनकी ब्रा बहुत मस्त थी बिल्कुल मुलायम!
थोड़ी देर बाद मामा मामी आ गए, रात को खाना खाया और सो गए.
सुबह मामा ऑफिस चले गए और मैं रोज़ की तरह बाथरूम में जा कर मामी की पेंटी से खेलने लगा.

फिर दिन में खाना खाया और टीवी देखने लगे.
मामी और उनका बेटा टीवी देखते देखते सो गए लेकिन मैं नहीं सोया. मैंने मामी की तरफ देखा, वो सो रही थी और उनकी साड़ी घुटनों से थोड़ी नीचे थी.

मैंने उनके बेटे को कोने में किया और खुद बीच में आ गया. मामी मेरी तरफ पीठ कर के सो रही थी मैंने उनकी साड़ी पेटीकोट से बाहर निकालने की कोशिश की पर नहीं निकली.
फिर एकदम से मामी मेरी तरफ मुख करके सोने लगी. मैंने सोचा यही मौका है, मैंने उनके ब्लाउज से साड़ी हटाई और ब्लाउज के बटन खोलने लगा. तभी मामी जाग गई और मुझसे पूछा- तुम क्या कर रहे हो?

loading...

मैंने जल्दी से उनके होंठों पर किस करना शुरू किया. वो थोड़ी देर मचली, फिर मेरा साथ देने लगी.
फिर मैं उनके कपड़े उतारने लगा तो मामी ने कहा- तुम्हारे कमरे में चलते हैं.

क्योंकि यहाँ उनका बेटा सो रहा था.
मैं मामी को गोद में उठा कर अपने रूम में ले आया फिर उनके पूरे शरीर को चाटने लगा. फिर मैंने उनके कपड़े उतारे और उन्होंने भी मेरे कपड़े उतार दिए.

हम दोनों नंगे थे, मामी की चूत चिकनी बिल्कुल क्लीन थी. हमने 69 पोजीशन ली, मैं लगातार उनकी चूत चाट रहा था और वो मेरा लंड चूस रही थी.
थोड़ी देर बाद हम एक दूसरे के मुह में झड़ गए. थोड़ी देर हम लेटे, फिर मेरा लंड तैयार हो गया, मैंने उनकी चूत में अपना लंड रखा और एक झटका दिया पूरा लंड चूत में चला गया.

मामी ‘आ हह हां आह आह उम्म्ह… अहह… हय… याह… अहह हह हा’ की आवाज़ कर रही थी.
मैंने भी झटके देने चालू रखे. थोड़ी देर बाद मामी झड़ गई, मैंने झटकों की रफ़्तार तेज़ कर दी और 10-15 झटकों के साथ मैंने उनकी चूत में अपना माल छोड़ दिया. फिर मामी के ऊपर लेट गया.

मामी ने कहा- आज मेरा भांजा बड़ा हो गया है!
फिर मामी ने कहा- मुझे पता था कि तुम मेरी पेंटी में मुठ मारते हो क्योंकि तुम्हारे माल का दाग रह जाता था.

मामी हँसने लगी.
मैंने मामी की गांड पर हाथ फेरा, वो मुस्कुराई और उलटी लेट गई. मैंने उनकी गांड और अपने लंड पर तेल लगाया और 15 मिनट तक उनकी गांड मारी और सारा माल गांड में छोड़ दिया.
हम बाथरूम में गए और एक दूसरे को नहलाया और बाहर आकर कपड़े पहन लिए.

शाम को मामा आ गए.
अब रोज़ दिन में मामी बेटे को सुलाकर मेरे पास आ जाती और मैं रोज़ मामी की चुदाई करता!

एक दिन मामी ने कहा- तुम अपना सारा माल अपनी चूत में छोड़ देते हो, इससे मैं तुम्हारे बच्चे की माँ बन जाऊंगी.

तो मैंने कहा- ठीक है!

मामी ने कहा- तुम्हारे मामा ने तो मुझे कई दिन से चोदा नहीं है.

तो मैंने कहा- मामी, आज आप मामा से चुदाई करा लो!
मामी मान गई और उन्होंने मामा से चुदाई करा ली.
थोड़े दिन बाद मैं अपने घर चला गया, घर जाने से पहले मामी की खूब चुदाई की.
साल भर बाद मैं फिर मामा के घर गया, इसी बीच मामी को बेटी हुई. मैं उनसे मिला, मामी खुश थी, उन्होंने मुझे अपना दूध पिलाया और मैंने उनकी खूब चुदाई.

loading...

अन्य मजेदार कहानियाँ