शादी में कैसे लड़की पटाया

Sex story in hindi, शादी में कैसे लड़की पटाया। मेरे कूल दोस्तों, कैसे हैं आप सब? अभी मैं तो आशा करता हूँ की मेरे सारे दोस्त बहूत अच्छे ही होंगे। और अपनी मस्त लाइफ को मस्ती के साथ जी रहे होंगे. दोस्तों आप लोगो को चुदाई करना तो पसंद ही होगा. आप लोगो को अगर चुदाई करना पसंद है तो आप सभी लोग चुदाई का पूरा मज़ा ले ही रहे होगे.

मेरा नाम राहुल है और मेरी उम्र 22 साल है. मेरो हाईट 5 फुट 8 इंच है. मेरी हाईट ठीक होने की वजह से मेरी बॉडी भी ठीक ठाक है. दोस्तों मेरा रंग गोरा है और मैं दिखने में काफी स्मार्ट लगता हूँ. मैं अभी पढाई करता हूँ. दोस्तों मेरा परिवार ज्यादा बड़ा नही है. मेरे घर में सिर्फ़ 5 लोग रहते हैं. मेरे पापा और मम्मी मेरे भईया भाभी मैं रहते हैं क्यूंकि मेरे भईया की शादी हो गयी है. मेरी भाभी दिखने में सुन्दर हैं और वो हम सबका बहुत अच्छे से ख्याल रखती हैं. दोस्तों मैं आप लोगो का ज्यादा टाइम न बर्बाद करते हुए सीधे अपनी कहानी पर आता हूँ.

ये कहानी अभी कुछ महीने पहले की है. दोस्तों मेरे मामा की लड़की की शादी होने वाली थी. तब मुझे और मेरे घर के सभी लोगो को शादी में जाना था इसलिए हम सब लोग 3 दिन पहले ही वहां चले गए. जब हम सब लोग वहां पहुचे तो देखा की काम बहुत जोरो से हो रहा था क्यूंकि शादी को 2 दिन ही बचे थे. दोस्तों मैं भी जाकर काम देखने लगा और शादी में बहुत भाग दोड़ होती है जिसकी वजह से किसी को इतना टाइम भी नही मिलता की किसी रिश्तेदार को बैठा कर पानी भी पिला शके. मैं उस टाइम बाहर से गेस का सेल्न्दर लेकर आया था और मैं जैसे ही अन्दर लेकर आया.

दोस्तों मेरी नज़र एक लड़की पर पड़ी. वो दिखने में बहुत गोरी थी और वो किसी हिरोइन से कम भी नही लग रही थी. मैं उसको कुछ देर तक तो ऐसे ही देखता रहा और वो मुझे बिना देखे ही चली गयी. दोस्तों मुझे वो पहली नज़र में ही पसंद आ गयी थी और मैंने सोच लिया था की यहाँ से जाने से पहले इसका नम्बर तो ले ही लूँगा. फिर मैं थोडा काम करने के बाद मम्मी के पास जाकर बैठ गया. वो मुझसे मेरे बारे में पूछने लगी. मैं भी मम्मी को बता ही रहा था की वो लड़की मुझे फिर से दिख गयी.

तब मैंने मम्मी से पूछा मम्मी ये लड़की कौन है पहली बार देख रहा हूँ. यहीं तुम्हरे यहाँ की है या कोई रिश्तेदार है. तब मम्मी ने मुझसे कहा की तुम नही जानते हो इस लड़की को. मैंने भी कहा नही मम्मी कौन है. दोस्तों तब मेरी मम्मी ने बताया की ये तुम्हारी भाभी की छोटी बहन है. दोस्तों मैं सिर्फ़ भाभी के घर एक बार ही गया था और उस दिन मुझ ये दिखी नही थी. मैं उस दिन के बाद कभी नही गया था.

तब मम्मी ने उसे बुला कर मुझसे पहचान कराई. दोस्तों तब मुझे उसका नाम पता चला. उसका नाम अनामीका था और वो सुन्दर तो थी ही पर उसका फिगर बहुत सेक्सी था. वो उसके बड़े बड़े बूब्स जो टी शार्ट के ऊपर से बहुत गोल दिख रहे थे और उसकी गांड तो बहुत सेक्सी थी. उसकी गांड काफी बड़ी थी जो जींस के ऊपर से ज्यादा ही सेक्सी दिख रहो थी. जब मुझे पता चल ही गया था की वो मेरी साली है तो मैं अब उसके साथ मजाक भी कर दिया करता था. जब मैं उससे मजाक करता तो वो मुझसे भी मजाक करती हम दोनों उस दिन तो एक दुसरे से मजाक करते रहे हमारा दिन कैसे निकल गया आता ही नही चला.

फिर हम सब लोग खाना खाकर लेट गए. सब लोग छत पर साथ में ही लेटे थे जिससे हम लोग एक दुसरे से बात करते हुए सो गए. उसके दुसरे दिन की बात है जब मैं लेटा सो ही रहा था. सब लोग उठके नीचे चले गए थे और मैं सो ही रहा था. तब अनामिका पानी लेकर आई और मेरे ऊपर डाल दिया. दोस्तों मुझे घुस्सा तो बहुत आया और जब मैंने अनामिका को देखा तो उसके हाथ को पकड कर अपने ऊपर गिरा लिया. मैं उसे गिराने के बाद बाँहों में भर लिया.

मैं जब उसको अपनी बाँहों में भर लिया था तो उसके मस्त बड़े बूब्स बाहर आ गए थे. मैं जब उसके बूब्स के अंदर तक देखने लगा तो वो मेरे मुंह पर एक हाथ मारती हुई बोली क्या देख रहे हो. मैंने भी बिना किसी डर के कह दिया बहुत अच्छे हैं और ये कहते हुए उसको अपने नीचे कर दिया. मैं उसको नीचे करने के बाद उसके दोनों बूब्स को कस के दबा दिया. दोस्तों उसके मुंह से एक अह निकल गयी और वो मुझे ऊपर से हटा कर लेट गयी. फिर हम दोनों ऐसे ही कुछ देर तक लेते रहे और वो जाती जाती मेरी होठो पर एक किस करदी. मुझे बहुत ख़ुशी हुई क्यूंकि वो पट गयी थी. अब हमे जब ही मौका मिलता हम दोनों एक दुसरे को किस करते और मैं उसके बूब्स को दबा देता.

अब हम दोनों उस दिन खूब मस्ती की और मैं उसके साथ पुरे मज़े लेता. फिर सब लोग शादी हो जाने के बाद अपने अपने घर चले गए. उसके दुसरे दिन मेरे घर के लोग भी चले गए थे. अब घर में कोई भी नही था बस मम्मी और मम्मी के घर के लोग थे. मेरा और अनामिका का बिस्तर एक रूम में मम्मी ने लगा दिया. दोस्तों सायद अनामिका ने मेरे और अपने बारे में मम्मी को बता दिया था जिसकी वजह से जब मम्मी मेरा और अनामिका का बिस्तर लगा रही थी तो मुझे देख कर हँस रही थी.

फिर वो बिस्तर लगाने के बाद मेरे सर पर हाथ फेरते हुई चली गयी. जब हम दोनों खाना खाने के बाद कमरे में आये तो अनामिका ने अन्दर से दरवाजा को बंद कर लिए. हम दोनों कुछ देर तक एक दुसरे से बात करने के बाद मैं उसकी होठो को पर अपनी होठो रख दिया. वो मेरी होठो को चूसने के साथ मेरे लंड को पैंट के ऊपर से सहलाने लगी. मैं उसकी होठो को मुंह में रख कर जोर जोर से चूस रहा था साथ में उसके बड़े चिकने बूब्स को दबा रहा था. दोस्तों उसके बूब्स ज्यादा बड़े होने की वजह से मुझे बूब्स को दबाने में मज़ा आ रहा था. मैं उसकी होठो को चूसने के साथ बूब्स को ऐसे ही कुछ देर तब दबता रहा.

फिर मैंने अपने कपडे निकाल दिए और साथ में उसके भी निकाल दिए. वो बिना कपड़ो के किसी पारी से कम नही लग रही थी. मैं उसको ऐसे देख कर उसकी कमर में लिपट गया और किस करते हुए उसके एक दूध को मुंह में रख कर चूसने लगा. वो बिस्तर को कस के पकड कर मचलती हुई मेरे सर को सहलाने लगी. मैं उसके दोनों बूब्स को ऐसे ही जोर जोर से मुंह में रख कर कुछ देर तक चूसने के बाद मैं अपने लंड को उसके हाथ में पकड़ा दिया. वो मेरे लंड को हाथ में पकड कर घुटनों के बल बैठ कर चूसने लगी. मैं अपने लंड को ऐसे ही 5 मिनट तक चुसाने के बाद.

मैंने उसकी टांगो को फैला कर उसकी चूत में थूक लगाकर उसकी चूत में घुसा दिया. जिससे उसके मुंह से जोर जोर से दर्द भरी अह अह की आवाजे निकल गयी. वो लेट कर कस के बिस्तर को पकड लिया और चुदने लगी. मैं उसकी कमर को दोनों हाथ से पकड कर जोरदार धक्के मारने लगा. मैं उसकी चूत में ऐसे ही जोर जोर के धक्के मारते हुए चोद रहा था. वो आ आ आ आ….. ह ह ह ह..ऊ ऊ ऊ ऊ ऊ ऊ…. ई ई ई ई ई….की सेक्सी आवाजे कर रही थी. मैं उसकी चूत में धक्के मारने के साथ उसके बूब्स को हाथ में पकड कर दबा रहा था. वो ह ह ह ह..ऊ ऊ ऊ ऊ ऊ ऊ…. ई ई ई ई ई…. करती हुई अपनी चूत को सहला रही थी.

मैं उसकी चूत में ऐसे ही कुछ देर तक धक्के मारने के बाद उसकी चूत से लंड को निकाल कर उसको घोड़ी की तरह बेड पकड़ा कर खड़ा कर दिया. जब वो घोड़ी तरह खड़ी हो गयी तो मैं उसकी चूत में पीछे से लंड को घुसा कर जोरदार धक्के मारने लगा जिससे धक्को की आवाज कमरे में गूंजने लगी. मैं उसकी चूत में जोरदार धक्के मार रहा था और वो अपनी चूत को आगे पीछे करती हुई चुदाई का मज़ा ले रही थी. मैं उसको ऐसे ही कुछ देर तक चोदने के बाद उसकी चूत से निकाल कर झड़ गया. फिर मैं उसके बूब्स को दबाने के साथ उसकी होठो को कुछ देर तक चूसता रहा. फिर हम दोनों ने कपडे पहन कर लेट गये और हम दोनों एक दुसरे की बाँहों में लेते हुए सो गए थे

Related Post

अकेली ट्यूशन टीचर दोस्तों अगर आप मेरी कहानियों के कैरेक्टर्सं के स्थान पर अपने आप को रख कर कहानी को पढेंगे, तो मेरा पक्का वादा है कि आज के नौजवान और आज के बुड्डों और ब...
बेसरम बीबी बहुत प्रयासों के बाद मेरी जिंदगी में अंजलि का प्रवेश हुवा। मैं अंजलि को तब से जनता हु जब मैं अपने कॉलेज की नयी जंदगी की सुरुआत कर रहा था। तभी अंजलि का...
रूपमती का पहला अनुभव ... Hindi porn story री पहली कहानी मै आपके लिए पेश कर रहा हूँ, ‌‍मै 23 साल का लड़का हूँ, मुम्बई के पास के पालघर तालुका में रहता हू। मेरा घर गांव में...
हमेशा चाची ने मेरी बिस्तर गरम की... हमेशा चाची ने मेरी बिस्तर गरम की. दोस्तों आज में आप लोगो के सामने अपनी एक रियल स्टोरी कहानी लेकर हाज़िर हूँ जिसमे मैंने मेरी आंटी आशा को चोदा. जो कि मे...