बारिश में भीगी हुई लड़की को कैसे चोदें।

Hindi sex story, desi sex kahani, antarvasna बारिश में भीगी हुई लड़Kई की चुदाई। हर पोजीशन में बारीः में भीगी हुई लड़की को चोदा। हैलो फ्रेंड्स, यह लड़की की चुदाई की सेक्सी कहानी मेरी पहली कहानी है।
मेरा नाम शुमित कुमार है और मैं हरियाणा का रहने वाला हूँ। मेरी हाईट 5.9 इंच है और मेरी उम्र 22 साल है।

दोस्तो, मैंने अन्तर्वासना पर पिछले कुछ सालों में बहुत सारी सेक्सी कहानियाँ पढ़ी हैं। मैं धीरे-धीरे इनका आदी बन गया और अब मुझे इसके बिना रहना अच्छा नहीं लगता। मैं कई बार मौका पाकर मुठ भी मार लिया करता हूँ।

यह बात आज से एक साल पहले की है जब मैं कॉलेज में था और मैं अपने कॉलेज के पास किराए से एक रूम लेकर रहता था।

उस समय मेरे पड़ोस में एक फैमिली रहती थी, जिसमें दो लड़के और एक लड़की अपने माता-पिता के साथ रहते थे।
उस लड़की का नाम रश्मि था और वो लड़की अपने नाम की तरह बहुत सुंदर थी। उसके पतले-पतले लाल सुर्ख होंठ, हिरनी जैसी आखें, सुराही सी गर्दन, कसे हुए बड़े-बड़े चूचे, पतली कमर और मदमस्त गांड.. एकदम मस्त बिंदास फिगर थी। उसको देखकर ही किसी का भी ईमान डोल जाए।

उसके मेरे पड़ोस में रहने के कारण मेरी उससे अक्सर बात होती थी। शायद वो भी मुझे पसंद करती थी।

एक रात वो अपनी छत पर घूम रही थी और मैंने उससे उसका मोबाईल नंबर माँगा तो उसने इशारे से मुझे अपना नंबर दे दिया।
उसी समय मैंने उसे फोन किया और हम बातें करने लगे। उस रात के बाद मेरी उससे फोन पर हर रोज बातें होने लगी थीं। एक बार रात को मैंने उससे मेरे कमरे पर आने को कहा तो उसने साफ मना कर दिया.. लेकिन बाद में आने का वादा करके उसने कॉल काट दिया।

फिर अगली सुबह किसी ने मेरे दरवाजे को खटखटाया और जैसे ही मैंने दरवाजा खोलकर बाहर देखा तो वो मेरे सामने खड़ी थी। मुझे अपने ऊपर विश्वास नहीं हो रहा था और मैं उसे एक सपना समझकर देखने लगा।

तभी उसने मेरे हाथ पर छुआ और मैं हड़बड़ा कर अपनी नींद से पूरी तरह उठा। मैंने उसे अन्दर आने को कहा और हम बैठकर बातें करने लगे।

थोड़ी देर बाद उसने मुझसे पूछा कि क्या घर में दूध है?
तो मैं ‘हाँ’ में सर हिलाकर किचन की तरफ जाने लगा।
तो उसने कहा- तुम बैठ जाओ, आज मैं तुम्हारे लिए चाय बनाकर लाती हूँ।

जब वो किचन में चाय बना रही थी तो पहली बार मैं उसके गोल-गोल चूचे, बड़ी सी गांड, पतली कमर को बड़े गौर से देख रहा था।

फिर हमने चाय पी और बातें करने लगे। मैं उसे एकटक देखने लगा, तो उसने पूछा- ऐसे क्यों देख रहे हो?
मैंने कहा- आज तुम बहुत सुंदर लग रही हो।

मेरे मुँह से यह बात सुनकर वो ज़ोर-ज़ोर से हंसने लगी और मैंने मौका देखकर धीरे से उसका हाथ पकड़ लिया। उसने मेरी तरफ बड़ी मदहोशी से देखकर स्माइल की और अपना हाथ छुड़ाकर भाग गई।

मैं उसे जाते हुए देख रहा था और फिर वो मेरे कमरे पर अक्सर आने-जाने लगी और मैं उसे छेड़ने लगा। मैं कभी उसका हाथ पकड़कर मसल देता तो कभी उसके नाजुक, गोरे-गोरे गालों को सहला देता। वो भी मेरी किसी भी हरकत पर ऐतराज नहीं करती और इस तरह मुझे धीरे-धीरे आगे बढ़ने का मौका मिलने लगा।

एक दिन मैंने थोड़ी हिम्मत करके उसकी गांड पर हाथ रख दिया।
उसने कहा- ऐसे मत करो।
तो मैंने उसको पकड़ा और दीवार से लगाकर उससे चिपक कर खड़ा हो गया और कहा- अच्छा बताओ और क्या करूं?
तो वो मुझे धक्का देकर मुझसे दूर हो गई और मुस्कुराकर चली गई।

उस दिन मैंने दो बार उसे सोचकर मुठ मारी और फिर रात को उसने मुझे कॉल किया। मैंने उससे थोड़ी सी हंसी-मज़ाक की और फिर मैंने उससे उसके फिगर का साईज पूछा। पहले तो उसने साफ मना कर दिया और फिर दो-तीन बार पूछने पर उसने मुझे अपना साइज़ 34-30-36 का बताया।

फिर हमने बहुत देर तक सेक्सी बातें की, कॉल खत्म होने के बाद मैंने एक बार फिर से मुठ मारी और सो गया। फिर जब वो अगले दिन मेरे पास आई तो मुझसे नज़र हटाकर बात करने लगी।

जब वो जाने लगी तो मैंने उसके गालों पर किस किया और हल्के से उसके मम्मों को दबा दिया।
वो उस दिन के बाद कुछ दिन मेरे कमरे पर नहीं आई.. लेकिन हमारी फोन पर ही बातें होती रहीं।

फिर जब में सुबह उठा तो देखा कि मेरे कॉलेज जाने का समय हो चुका था। जब मैं जल्दी से तैयार होकर कॉलेज के लिए निकला तो मैंने देखा कि उसकी फैमिली कहीं बाहर जा रही है। तो मैंने उसको कॉल किया तो उसने मुझे बताया कि उसके मम्मी-पापा उनके किसी रिश्तेदार के यहाँ पर जा रहे है और शाम तक वापस आएंगे। साथ ही उसने मुझे बताया कि वो वहाँ पर नहीं जा रही है।

मैंने उसकी यह बात सुनकर कॉलेज ना जाने का फैसला लिया और वापस अपने कमरे पर आ गया और अब मैं उसके आने का बड़ी बेसब्री से इंतज़ार करने लगा। वो करीब एक घंटे के बाद मेरे कमरे पर आई.. उसने काले रंग का सलवार सूट पहना हुआ था और उसमें वो बिल्कुल सेक्सी माल लग रही थी। उसे देखकर मेरा लंड उफान मारने लगा।

मैंने उससे कहा- क्यों आज किसी का कत्ल करने का इरादा है?
यह बात सुनकर वो शरमा गई और हम बातें करने लगे, तभी जोर से बरसात होने लगी और उसने मुझे छत पर चलने को कहा।

हम दोनों ऊपर छत पर बारिश का मज़े लेने लगे। दोस्तों उस बारिश के पानी में उसका सलवार सूट उसके बदन से एकदम चिपक रहा था, जिसकी वजह से मुझे उसके जिस्म का हर एक अंग साफ-साफ दिख रहा था। उसका भरा-भरा जिस्म देखकर मेरा लंड टाईट होने लगा था और फिर मैं उससे चिपक गया।

उसने कोई उज्र नहीं किया तो मैं उसके जिस्म पर धीरे-धीरे हाथ घुमाने लगा और उसकी गर्दन पर किस करने लगा। उसने मुझे एकदम से धक्का दिया और वो भागकर नीचे जाने लगी.. लेकिन मैंने उसे जीने पर पीछे से पकड़ लिया।

अब मैं फिर से उसकी गर्दन को चूमने लगा, वो छुड़ाने की कोशिश करने लगी.. लेकिन मैंने उसे नहीं छोड़ा। मैं उसकी गर्दन को पागलों की तरह चूमने लगा। उसके कानों को धीरे से चूमा और धीरे से काटता रहा।

अब वासना से उसकी आखें बंद होने लगीं। मैंने उसका चेहरा अपनी तरफ घुमाया और उसके गालों को चूमने लगा। फिर उसके होंठों पर अपने होंठ रखकर धीरे-धीरे चूसने लगा।
उस समय मुझे लगा कि जैसे यह समय रुक सा गया हो। उसकी गरम साँसें तेज़ होने लगी थीं और मैंने उसे गोद में उठा कर नीचे कमरे में ले जाकर बेड पर लेटा दिया और उससे लिपट गया।

मैं उसके होंठों को चूसने लगा और उसके गरम जिस्म को सहलाने लगा। फिर उसके दोनों मम्मों को कपड़ों के ऊपर से ही अपने हाथों में लेकर धीरे-धीरे मसलने और दबाने लगा। उसने अपनी आखें अभी तक नहीं खोली थीं।

मैंने सही मौका देखकर उसका सलवार सूट उतार दिया और अब वो मेरे सामने गुलाबी कलर की ब्रा और पेंटी में थी।

क्या बताऊँ वो उस समय पानी में भीगी हुई क्या मस्त लग रही थी। मैं उसके रूप को शब्दों में नहीं बता सकता। उसका पूरे गरम जिस्म पर छोटी-छोटी पानी की बूंदें उसके जिस्म पर चार चाँद लगा रही थीं।

मैंने भी अपनी टी-शर्ट और लोवर उतार दिया और मैं उसके पेट को चूमने लगा। उसका जिस्म बहुत गरम हो गया था और वो मचलने लगी।

मैंने उसकी ब्रा को उतार दिया और उसके तने हुए चूचे एकदम मेरे सामने थे.. बिल्कुल गोल-गोल, गहरे भूरे कलर के निप्पल.. एकदम तनकर खड़े हुए थे। मैं उसके एक चूचे को मुँह में लेकर चूसने लगा और दूसरे चूचे को एक हाथ से दबाने, मसलने लगा। बहुत देर तक मैं उसके चूचे को चूसता रहा और धीरे-धीरे उसकी कमर को चूमते हुए नीचे जाने लगा।

फिर मैंने उसकी पेंटी भी उतार दी और मैं उसकी चूत को घूरकर देखने लगा। उस पर हल्के-हल्के बाल थे। मैंने उसकी चूत पर अपना एक हाथ धीरे से रख दिया और उसकी चूत को सहलाने लगा। कुछ देर चुत सहलाने के बाद मैंने महसूस किया कि उसकी चूत से थोड़ा थोड़ा पानी सा बाहर आ रहा था। मैंने उसका हाथ अपने खड़े लंड पर रख दिया.. लेकिन उसने तुरंत अपना हाथ हटा दिया। मैंने दोबारा से उसका हाथ लंड पर रख दिया.. लेकिन इस बार उसने हाथ नहीं हटाया। वो धीरे-धीरे मेरे लंड पर अपना हाथ घुमाने लगी।

मेरा लंड बहुत देर से तनकर खड़ा था जिसकी वजह से वो बहुत दर्द कर रहा था। फिर वो मेरे लंड को आगे-पीछे करने लगी।

दोस्तों ये कहानी आप अन्तर्वासना डॉट कॉम पर पढ़ रहे हैं।

फिर मैंने कुछ देर के बाद अपना लंड उसके होंठों पर रख दिया.. वो धीरे-धीरे से लंड की टोपी को चूसने लगी.. मुझे बड़ा मज़ा आ रहा था। मेरा लंड और भी फूल कर कुप्पा हो गया।

कुछ देर बाद मैंने उसे लेटा दिया और उसकी चूत पर अपना मुँह रख दिया। मेरे चूत पर मुँह रखते ही वो एकदम मचलने लगी और उसके मुँह से ‘अह्ह्ह्ह उह्ह्ह्ह माँ मरी अह्ह्ह उह्ह्ह..’ की सिसकारियाँ फूटने लगीं।

मैं उसकी चूत को 5 मिनट तक चूसता रहा। फिर कुछ देर में वो झड़ गई और उसने अपनी चूत का पानी मेरे मुँह में छोड़ दिया.. मैंने उसे चाटकर साफ कर दिया।

फिर मैं उसके पैरों के बीच में बैठ गया और अपना लंड उसकी चूत पर रगड़ने लगा। उसने मेरे लंड को पकड़ा और मुझे कुछ देर रोक दिया। मैंने कुछ देर के बाद लंड को चूत के मुँह पर सैट किया और एक झटका मारा लेकिन लंड ऊपर की तरफ़ फिसल गया.. क्योंकि उसकी चूत का छेद बहुत छोटा था और चूत बहुत टाईट थी। लेकिन इस बार उसने मेरा लंड पकड़कर अपनी चूत पर सैट किया और आंखों से मुझे इशारा किया। मैंने एक जोर का झटका दिया और लंड का टोपा उसकी चूत में चला गया और उसके मुँह से चीख निकल गई।

मैंने तुरंत उसके मुँह पर अपना एक हाथ रख दिया और वो दर्द से छटपटाने लगी और खुद को छुड़ाने की कोशिश करने लगी। लेकिन मैंने उसे बहुत कसकर पकड़ लिया और एक ज़ोर का झटका मारा तो उसकी आखों से आंसू आने लगे और अब मेरा आधा लंड उसकी चूत में था।

मैं कुछ देर ऐसे ही रुका रहा और धीरे-धीरे उसके गालों को चूमता रहा और उसके होंठों को चूसने लगा। उसके जिस्म को एक हाथ से सहलाने लगा।

कुछ देर बाद वो मेरा साथ देने लगी और मैं धीरे-धीरे अपना लंड उसकी चूत में आगे-पीछे करने लगा। धीरे-धीरे मैंने अपना पूरा लंड उसकी चूत में घुसा दिया.. लेकिन अब भी मेरा लंड उसकी चूत में बहुत टाईट जा रहा था।

दोस्तों शायद यह उसकी पहली चुदाई थी इसलिए उसकी चूत इतनी टाईट थी और वो दर्द से तड़प रही थी।

फिर कुछ देर बाद वो भी अपनी कमर को उठाकर मेरा साथ देने लगी और मैंने अपनी स्पीड बढ़ा दी। वो अपनी गांड को उठाकर मेरे लंड को अपनी चूत में पूरी गहराइयों तक लेने लगी और वो मेरे बदन पर हाथ फेरने लगी। वो मुझे अपनी बाहों में जकड़ने लगी।

पूरे रूम में उसकी मादक सिसकारियाँ गूंजने लगीं। वो मुझे काटने लगी और उसने अपने दोनों पैरों को क्रॉस करके मेरी कमर को जकड़ लिया। मेरे हर एक धक्के पर उसकी सिसकारियाँ तेज होने लगीं और उसकी चूत से ‘फच फच’ की आवाजें आने लगीं।

उसने मुझे अपने जिस्म से जोर से जकड़ लिया.. मुझे ऐसा लगा कि वो मुझमें समाना चाहती हो और फिर उसने अपने नाख़ून मेरे पेट पर गड़ा दिए।

तभी उसकी चूत से जोरदार स्पीड में गरम-गरम लावा बाहर निकालने लगा। वो इतने जोर से झड़ी कि 3-4 झटके के बाद मैंने भी अपना वीर्य उसकी चूत में छोड़ दिया और निढाल होकर उसके ऊपर गिर गया।

कुछ देर तक हम ऐसे ही एक-दूसरे की बाहों में लिपटे बेड पर पड़े रहे। कुछ देर बाद हम उठे और बाथरूम में जाकर एक-दूसरे को साफ किया।

फिर उसने खून से सनी हुई बेडशीट को उठाकर धो दिया। उसके बाद उस दिन हमने एक बार और चुदाई की और जब तक शाम हो गई थी। उसके मम्मी-पापा के आने का भी टाईम हो गया था। वो जल्दी से कपड़े पहनकर, मुझे किस करके अपने घर चली गई।

अब जब भी हम दोनों को मौका मिलता है तो हम सेक्स करते हैं। मैंने अपने कमरे में हर जगह, हर पोजिशन में उस लड़की की चुदाई कई बार की है।

Add a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *