बुआ की लड़की की चुदाई

  • Hindi sex story

ये कहानी है बुआ की लडकी की चुदाई की।

मेरा नाम पीके है, मै अपने जीवन की पहली घटना के बारे में बताने जा रहा हूँ, जो सच्ची घटना पर आधारित है.

मै उस समय पढ़ता था. मेरी बुआ की लड़की हमारे घर पर एक माह के लिए रहने आई थी. उसका नाम नीतू है, हम दोनों हमेशा साथ साथ ही रहते थे. वो बार बार मुझे अपनी तरफ खींच लेती थी और कहती थी कि चलो पति पत्नी का खेल खेलते हैं.
यह कह कर वह हमेशा मेरे बदन से चिपक जाती थी और मेरी लुल्ली को पकड़ कर मसल देती और अपने आप ही मेरे ऊपर चढ़ जाती.

उस वक्त मुझे सेक्स या कोई और फीलिंग महसूस नहीं होती थी. इसके उलट मै गुस्सा होकर उसकी पिटाई कर देता था, तो वो नाराज होकर मुझसे दूर हो जाती थी.

फिर समय के साथ-साथ मै भी बदलता गया.

अब होली का पर्व आने वाला था और मेरी चाची को मायके जाने के कारण नीतू को ही मेरे यहाँ आना पड़ा. मै उस समय 19 का हो गया था और नीतू 18 की चढ़ती जवानी थी, उसके स्तन उभार ले रहे थे. उसके गालों पर प्रीति जिन्टा की तरह हँसने पर डिम्पल बन जाते थे.
उसकी मचलती जवानी, पतली कमर और नशीली आँखों का मै दीवाना होता चला गया.

उसी समय मेने एक पैन्ट को काट कर हाफ पैन्ट बनाया था, जो उसे काफी पसंद था. वह दिन में काम करते समय मुझसे मेरा ही पैन्ट छुड़ाकर पहन लेती और मुझे मांगने पर भी नहीं देती. इस दौरान छीना-झपटी में मेरा हाथ उसके स्तनों पर पड़ जाता तो वो गुस्सा होकर मुझसे दूर हो जाती.

मुझे इसमें मजा आने लगा था, अब मै जानबूझ कर उससे अपना पैन्ट छीनता, उसके बदन को छूने की कोशिश करता और कभी कभी उसके करीब जाकर पीछे से उसे पकड़ लेता और वो भागने की कोशिश करने लगती, तो मेरी पकड़ उस पर और मजबूत होने लगती.

उस दौरान उसकी मादक सिस्कारी मुझे और उत्तेजना पैदा कर देती और मै उसे अपनी बांहों में ही भर कर अपने आगोश में ले लेता.
ऐसे मौकों पर कभी-कभी मै उसकी गर्दन पर किस कर देता और अपनी गर्म साँसों से उसके अन्दर उत्तेजना पैदा करने लगता.

बात इसी तरह बढ़ती चली गई और मेरी तरफ वो आकर्षित होने लगी. अब तो जब भी मुझे मौका मिलता, मै उसके गालों को चूम लेता और उसे बांहों में भर लेता.

कुछ दिन बीतने के बाद मेने एक तरीका निकाला. और मै उसके गुप्तांगों से खेलने का बहाना ढूँढने लगा. जैसा कि मेने बताया कि उसे मेरा हाफ पैन्ट पसंद था. जो वो पहनकर दिन में काम किया करती थी.
यह बात सोच कर मेने क्या किया कि उस पैन्ट की दोनों जेबों में बड़े-बड़े छेद कर दिए. ताकि उसकी जेब में हाथ डालने पर मेरा दोनों हाथ उसके जाँघों पर घूमने लगे.

अब मै कभी भी उसे पीछे से पकड़ लेता और पॉकेट में हाथ डाल कर उसकी गोरी चिकनी जाँघों को सहलाने लगा.

जब उसका कोई विरोध नहीं हुआ, तो मै और शरारत करने लगा. मै जेब में हाथ डाल उसकी पावरोटी की तरह फूली हुई चूत को अपने हाथों से सहलाने लगा. इस समय मै उसके कानों को अपने दांतों से काटने लगता था. इस सबसे उसे गुदगुदी सी लगती. तो वो छटपटाने लगती और भागने की कोशिश करती. तो मेरी पकड़ उस पर और जोर से होने लगती थी.

इस कारण से मेरे दोनों हाथ उस पैन्ट की फटी पॉकेट की वजह से उसकी चूत की तरफ दबाव बढ़ाने लगते और नीतू के मुँह से ‘आह. आह.’ की आवाज निकलने लगती और वो मुझसे लिपटने लगती.

जब मुझसे लिपटने लगती, तो मेरा लंड उसकी गांड की दरार में पैन्ट के ऊपर से ही फंसने लगता और नीतू और बेचैन होने लगती.
इस तरह मस्ती में लिपटन-चिपकन बढ़ जाती तो मेरा लंड और उसकी गांड की दरार में और फंसता चला जाता. इससे नीतू मस्त होने लगती और मेरा साथ देने लगती.

अब मेरा हाथ उसकी चूत में गहराई तक चला जाता और नीतू और मचल कर अपनी जांघ को कस लेती और मुझे अपनी बांहों में कसने लगती.

यह सिलसिला अब रोज खाना बनाते समय किचन में होने लगा और नीतू का मेरे प्रति आकर्षण होने लगा. हम दोनों का शारीरिक आकर्षण भी बढ़ गया था. अब तो वह मुझे बेहिचक अपने आगोश में ले लेती और मै उसकी जीभ को अपने मुँह के अन्दर खींच कर उसे किस करने लगता जिसमें वो मेरा साथ देती और उसकी साँसें बढ़ने लगतीं. इस तरह के लम्बे चुम्बनों से उसका बदन अकड़ने लगता और मेरा हाथ उस फटी हुई पैंट की जेब से उसकी चूत में घुसता चला जाता.

अब वो मेरी ओर पूर्ण रूप से समर्पण करने लगी थी. हम दोनों के जिस्म वासना के इस रूप को समझने लगे थे.

 

एक दिन घर में किसी के नहीं होने के वजह से हमे अच्छा मौका मिल गया. मै नीतू को बाथरूम में ले जाकर उसके साथ नहाने लगा और उसके कपड़ों को केले की छिलके की तरह उतारने लगा. मेने उसकी ब्रा को भी निकाल दिया और उसे चुम्बन करने लगा, कभी उसके पेट पर कभी नाभि पर. कभी कमर पर चूमने लगा.

वो भी मस्त होकर अपनी चूचियां मेरे मुँह की तरफ बढ़ाने लगी तो मै उसकी एक चूची का अपने मुँह में लेकर चूसने लगा और उसके होंठों को अपने होंठों में दबा कर चूसते हुए काटने लगा. इस तरह उसे बाथरूम में ही मै उत्तेजना में लाने लगा और उसके पैरों से लेकर चूत तक चूमना चालू कर दिया.

वो पागलों की तरह चिल्लाते और कराहते हुए मेरा सर पकड़ कर दबाने लगी ‘उम्म्ह… अहह… हय… याह…’ उससे अपनी चढ़ती जवानी खुद के बस में नहीं रही और मै अपने हाथों से उसके हर अंग पर चुम्बनों की बौछार करता हुआ उसकी चूत में अपनी जीभ लगा कर लगातार चूसने लगा.

वो चुदास के नशे में मेरा सर अपनी चूत में दबाती चली गई. मेने उसकी चूत को इतना गर्म कर दिया था कि वो मेरे लंड को अपने दांतों से काटने लगी और चूसने लगी.

कुछ ही पलों में वो मेरे लम्बे लंड को अपने मुँह में लेकर लॉलीपॉप जैसे चूसने लगी. मै भी लंड चुसाने में मस्त हो गया और राजधानी एक्सप्रेस की तरह उसके मुँह में अपने लंड को आगे पीछे पूरी ताकत से पेलने लगा.

कुछ देर तक लंड को उसके मुँह में पेलने के मै झड़ने को हो गया था तभी उसकी चूत भी बिन मौसम की बरसात की तरह झड़ने लगी, वो अपने शरीर को झटके देते हुए लगातार कई बार झड़ी और तभी मै भी झड़ गया. मेरे झड़ते ही उसने मेरा सारा माल अपने मुँह में ले लिया.

अब मै और नीतू बाथरूम में ही एक-दूसरे से निढाल होकर चिपक गए.

अब तक दिन के 12 बज चुके थे, अंकल खाना खाने आने वाले थे. हम लोग फ्रेश होकर रूम में आ गए और अंकल के जाने के बाद तुरन्त ही हम लोगों ने भी खाना खाया और टीवी पर मर्डर फिल्म देखने लगे.

बुआ की लड़की की चुदाई

मुझे चुल्ल हो रही थी. तभी कुछ हॉट सीन आ गए. मेने नीतू को उसी तरह अपनी बांहों में भर लिया और उसे किस करने लगा, वो भी मुझसे लिपट गई. मै उसकी चूत में हाथ लगा कर उसकी चूत को रगड़ने लगा और जोर-जोर से उसकी चूत को सहलाले लगा. वो पागलों की तरह मेरे बालों को सहलाने लगी.

मुझ पर वासना का भूत सवार हो गया था तो मेने उसके घाघरा को नीचे खीं दिया, फिर उसकी मिनीशर्ट को भी खींचते हुए उतार दिया. अब मेरे सामने उसकी छोटी सी ब्रा थी. जिसमें उसके मम्मे फंसे से दिख रहे थे.

मै ब्रा के ऊपर से ही उसकी बूब्स को मसलने लगा. वो भी अपने हाथों से मेरा लंड को मसलने लगी. कुछ ही पलों में उसने मेरे सारे कपड़े उतार दिए. मेरी गंजी को भी खींच कर फाड़ दिया.

मेने देर न करते हुए उसे बेड पर लिटा दिया. अब मेने उसके पैरों से चुम्बन करना चालू किया और उसकी जांघ तक खूब चूमा और चूसा. फिर उसकी चूत में उंगली डाल कर सहलाने लगा.

वो वासना में मस्त होने लगी और उसने 69 में होते हुए मेरे लंड को काटना चालू कर दिया. अब कभी वो मेरे लंड को जोर से काटती और एकदम गले तक ले लेती और हांफने लगती.
यह कहानी आप SexStoriesHD.COM पर पढ़ रहे हैं.

इधर मेने उसकी चूत में इतनी तेज रफ्तार से उंगली करना शुरू दिया था कि वो एकदम से मचल उठी थी, अब उससे बर्दाश्त नहीं हो रहा था. वो बार-बार मेरे लंड को हाथ में लेती. तो कभी मुँह में भर के चूसने लगती.

इसी दौरान मै एक बार फिर उसके मुँह में झड़ गया. वो मेरा सारा माल पी गई और फिर मेरे आंडों से खेलने लगी. इस बार तो मुझे ऐसा लग रहा था कि क्यों ना मुझे कोई फाँसी पर चढ़ा दे. लेकिन नीतू की मस्त चुदाई के बाद.!

मेने इस तरह उसको बेचैन कर दिया था कि वो अपने हाथों से मेरे लंड को अपनी चूत पर ले गई. पर मै उसे और तड़पाने लगा. उसकी चूत पर ऊपर से ही सुपारे को रगड़ने लगा.
वो कामुकता से चिल्लाने लगी- आह्ह. अब मुझे नहीं तड़पाओ. मै तुम्हारी सारी बातें मानूँगी. जब चाहोगे तब तुम्हारी हो जाऊँगी. प्लीज़ फक मी. प्लीज़ फक मी.!

मै उसकी चूत की दोनों फांकों को फैलाकर अपनी जीभ से चाटने लगा और वो बस चिल्लाए जा रही थी. मै भी उसकी चूत की मसाज करता रहा.

Bua ki ladki ki chudai

कुछ देर बाद जब मुझसे भी बर्दाश्त नहीं हुआ तो मेने अपना खड़ा लंड उसकी चूत में उतार दिया, उसकी दर्द से चीख निकल गई.

चूंकि मेरा और उसका पहली बार का सेक्स होने से उसे बहुत दर्द हो रहा था. मुझे भी लंड की खाल खिंचती सी महसूस हो रही थी. मै धीरे-धीरे अन्दर-बाहर करता हुआ उसकी चूत में लंड पेलने लगा. इस तरह से मेरा आधा लंड उसकी चूत में घुस गया और वो जोर से चिल्लाने लगी. लेकिन मै रुका नहीं और जोर-जोर से लंड पेलता रहा.

कुछ झटकों के बाद मेने उसकी दोनों टांगों को अपने कंधे पर टिका लिया और बिना लंड निकाले हाथ से थूक लगाकर फिर एक बार झटका मारा. तब जाकर पूरा लंड उसके चूत में गया.

इस तगड़े शॉट से उसका मुँह खुला का खुला ही रह गया और वह पूरी तरह मेरे आगोश में आ गई.

मै धकापेल शॉट लगाने लगा और धीरे-धीरे उसका दर्द जोश में बदल गया. अब नीतू मेरी बांहों में समा गई और अपनी गांड उठा-उठा कर मेरा साथ देने लगी. इस तरह मै उसको कई मिनट तक चोदता रहा. उसकी धकापेल चुदाई करता रहा.

फिर मुझे याद आया तो मेने गद्दे के नीचे से कंडोम निकाल कर लंड बाहर करके उस पर लगाया और कुछ देर की जबरदस्त चुदाई के बाद चूत में ही मतलब कंडोम में ही सारा माल निकाल दिया. वो भी झड़ चुकी थी तो उसने भी पस्त होकर मुझे अपनी बांहों में ले लिया.

इसके बाद तो हम दोनों की चुदाई जब तब चलने लगी.

उन सब मौको पर किस किस तरह से उसकी चुदाई हुई ये सब मै आप लोगों के कमेंट्स आने के बाद ही लिखूंगा.

Add a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *