फसेबूक पर तलाकशुदा भाभी मिली

फेसबुक पे मिली एक तलाकशुदा भाभी की। जमकर चुदाई कर दी मैने उस समय दोस्तोन म है यानी की मैं जॉय लेनिन विजाग से, आपसे अपनी सच्ची सेक्सी एडल्ट स्टोरी शेयर करने जा रहा हूँ. ये सेक्स स्टोरी मेरी एक फ़ेसबुक फ्रेंड सुमीना के साथ की है, जो विजयवाड़ा के पास की एक सिटी में रहती है. वो नॉर्थ ईस्ट सिक्किम से है. उसके उम्र 40+ की होगी. हमारी दोस्ती फ़ेसबुक पर हुई. पहले सुमीना की बहन से मेरी फ्रेंडशिप हुई. उसके बाद सुमीना ने रिक्वेस्ट एक्सेप्ट की और हम अच्छे दोस्त बन गए और फ़ेसबुक में बहुत चैट करने लगे.

अब मेरी सुमीना से अच्छी दोस्ती होने लगी, हम सेक्स की बातें भी करने लगे. वो अपनी सेक्सी लाइफ से खुश नहीं थी क्योंकि उसका पति दारू पीता था.. तो सुमीना उससे तलाक़ लेकर विजयवाड़ा में रहने लगी. वो टीचिंग का जॉब करती है. वो 3 बच्चों की माँ है. उसकी पहली सन्तान एक बेटी है उसके बाद बेटा और फिर एक बेटी है. अभी वो बहन और एक छोटी बेटी के साथ रहती है.

हम दोनों रात में बहुत देर तक चैट करने लगे. मुझे एक अच्छी दोस्त मिल गई थी. अब तो मैं उसको ड्यूटी पर भी मैसेज करने लगा. एक दिन शनिवार की नाइट में हम दोनों चैट कर रहे थे, उस वक्त रात को शायद 11:30 बज गया होगा. मैंने सेक्स का टॉपिक शुरू कर दिया. पहले तो सुमीना को डर था कि मैं एक कम उम्र के लड़के के साथ कैसी बातें कर रही हूँ.. लेकिन मैं उससे जिद करता रहा कि सेक्स में उम्र का कोई मतलब नहीं होता है.. तो धीरे धीरे वो भी मान गई. हमने अब तक कॉल पर बातें नहीं की थीं, बस फ़ेसबुक तक सीमित थीं.

लेकिन आज की रात मैं कुछ करने के मूड में था. मैंने सेक्सी पिक सेंट की जो सुमीना को अच्छी लगी. हम दोनों पिक पर कमेन्ट करने लगे. सुमीना को सेक्सी बातें अच्छी लगने लगीं. मैंने इसके बाद उसको काफ़ी फोटो सेंड की और सेक्स का मूड बना दिया.

सुमीना उस रात अकेली सो रही थी तो उसको सेक्स करने का मूड होने लगा. हमने रात को एक बजे मोबाइल नम्बर एक्सचेंज किए. मैं मौका खोना नहीं चाहता था तो मैंने कॉल कर दिया. सुमीना एकदम सेक्स के मूड में आ गई थी. हमने फ़ोन पर सेक्सी बातें शुरू कर दीं. सुमीना मुझे किस करने लगी- म्म्म म.. उहऊऊउऊहहा.. मैंने भी रिप्लाइ किया- ममहूऊहहा.. लव उ जानू.

वो और सेक्सी होने लगी, फोन सेक्स होने लगा और वो मुझसे अपने मम्मे चूसने के लिए बोलने लगी. हम दोनों पर सेक्स का भूत सवार हो गया था. वो अपने मम्मों और चुत से खेलने लगी. मैं चैट पर अपना लंड को निकाल कर बैठ कर मुठ मारने लगा. हम दोनों ने फोन सेक्स करते हुए पानी निकाल दिया और शांत हो गए.

इसके बाद हम रियल सेक्स का प्लान करने लगे और दूसरी नाइट में हम दोनों ने फिर से कॉल करके सेक्स शुरू किया, बहुत मजा आ रहा था. मैं अपना लंड हिला कर बातें कर रहा था, वो बहुत सेक्सी आवाजें निकाल रही थी. मेरा लंड फुल टाईट हो गया था, मैं मुठ मारने लगा. वो भी बोल रही थी कि वो पूरी नंगी वॉशरूम में कमोड पर बैठ कर फिंगरिंग कर रही है. मुझे ये बहुत सेक्सी फील हो रहा था. वो बहुत सेक्सी आवाजें दे रही थी- आह.. एयेए.. मुझे चोद दो.. फऊऊक मीई.. एयाया ओहह इस्सस फकक मी.

यह सुन कर मेरा लंड तो लौड़ा बन गया में लंड हिला रहा था. अब तक शायद सुमीना की चुत ने पानी छोड़ दिया था. उसकी साँसें मद्धिम हो गईं, वो रिलेक्स फील कर रही थी. अब उसने फ़ोन कट कर दिया, शायद वो चूत धोने लगी थी. फिर उसने मुझे फोन पर अपनी चुत का फोटो भेजा, मुझे उसकी बहुत अच्छी लगी.. एकदम चिकनी चमेली झांट रहित चुत थी.. वव्वाओ क्या दिख रही थी.

मैंने फ़ोन में चुत को चूमा. अब तक की चुदाई, कॉल और फ़ेसबुक और व्हाटसएप पर ही होती थी लेकिन अब रियल चुदाई का टाइम आ गया.

मेरी पोस्टिंग विजाग से केरल हो गई. मेरे जाने का टाइम नजदीक आ गया. मैंने 4 दिन की छुट्टी लेकर सुमीना से मिलने का प्लान बनाया. मैं फ्राइडे को विजाग से निकला और सुमीना के घर शनिवार सुबह 10 बजे पहुँच गया. वो मुझे स्टेशन पर लेने आई थी. मैं पहली बार सुमीना को सामने देख रहा था वो एकदम मेकअप करके आई थी, बहुत सेक्सी लग रही थी. स्टेशन पर बहुत भीड़ थी, मैं कुछ खास नहीं कर सका बस हल्का सा हग किया और सामान लेकर टैक्सी में बैठ गए और सीधे सुमीना के घर आ गए. घर आते ही उसने चाय पिलाई और इसके बाद मैं फ्रेश होकर नहाने चला गया.

तब तक सुमीना ने ब्रेकफास्ट रेडी कर लिया. दोनों साथ बैठ कर नाश्ता किया. अब तक हम एक दूसरे को अच्छे से जान गए थे.

वो किचन में चली गई, मैं हाथ धोकर कर उसके पीछे ही किचन में घुस गया. वो किचन में बर्तन साफ़ कर रही थी, मैंने पीछे से जाके उसको हग किया और गर्दन पर एक किस कर दिया.

वो नाइटी पहने थी, हाथ फेरने से अन्दर ब्रा पैंटी का भी अहसास हुआ. मुझे बहुत डर लग रहा था कि वो बुरा मान गई तो क्या होगा. लेकिन ऐसा कुछ नहीं हुआ उसने मेरी तरफ़ देख कर मादक हँसी बिखेरी.. मैं समझ गया कि उसको ये अच्छा लगा. मेरा लंड टाइट हो गया था, जो मैंने उसके चूतड़ों पर लगा दिया और खड़े खड़े ही लंड रगड़ने लगा. उसको भी मजा आने लगा.

अब उसका सब काम खत्म हो गया. उसने मुझे किस किया और बोली- बेडरूम में चलो. मैं बेडरूम में आ गया. वो एक तौलिया लेकर आई और रूम को लॉक कर दिया. सुमीना की एक बहन और उसकी एक बेटी भी साथ रहती थी. बहन भी टीचर थी और बेटी 8वीं क्लास में पढ़ती थी. उस टाइम दोनों स्कूल में थीं, घर पर हम दोनों ही थे.

वो वॉशरूम में जाने लगी तो मैं भी पीछे वॉशरूम में घुस गया वो सूसू करने लगी मैंने पीछे से उसकी चुत पर हाथ रखा, जिससे उसको सूसू नहीं हुआ.

वो बोली- हाथ हटाओ ना. मैंने कहा- तुम ऐसे ही ट्राइ करो..

उसने चूत खोल दी, उसका सूसू बहुत गर्म था, जिससे मेरा हाथ भीग गया. मैंने मूत की महक को लिया, मुझे बहुत अच्छा लगा. अब मैं भी सूसू करने लगा तो वो मेरा लंड पकड़ कर बैठ गई.

मैंने सूसू किया, उसने अपने दोनों हाथ मेरी सूसू से गीले किए, मेरा लंड हाथ में लेकर खूब हिलाया. वो काफी दिनों बाद लंड से खेल रही थी इसलिए वो बहुत खुश हुई. उसने एक किस किया और हाथ धो कर हम दोनों बेड पर आ गए.

अब चुदाई का खेल शुरू होना था. मैंने अपने सारे कपड़े उतार दिए. सुमीना भी ब्रा पेंटी में लेटी थी. मैं उसके ऊपर लेट गया और मम्मों को दबाने लगा. सुमीना को बहुत मजा आ रहा था. मैं कभी चुटकी भी काट लेता तो ज़ोर चिल्ला देती. दस मिनट तक किस हुआ और मम्मे चूसने का ही खेल चला.

अब वो बेहद गर्म होने लगी. वो मेरे ऊपर पैर करके चुत को लंड से रगड़ने लगी. मैंने उसको नंगी होने को बोला. वो बोली- तुम ही करो, जो करना है. मैंने उसकी ब्रा और पेंटी हटा दी. वो मेरे सामने बिल्कुल नंगी थी. वो एकदम सेक्स की देवी लग रही थी. उसका साइज़ 40-34-40 का होगा. मैं फिर शुरू हो गया.. मम्मों को किस किया और निप्पल मुँह में लेकर चूसने लगा. मेरा लंड उफान पर आ गया था क्योंकि मैं ये सब पहली बार कर रहा था.

वो मेरा लंड हाथ में लेकर मसाज़ करने लगी.. इससे मेरे लंड में और ताक़त आ गई. मैं कंट्रोल ही नहीं कर पा रहा था. मैं उसके ऊपर चढ़ गया, उसने मेरे जवान होंठों को किस करना शुरू कर दिया जो कि मेरी लाइफ में पहली बार हो रहा था.

मेरे लंड से पानी निकलने वाला था, मैंने कहा तो वो बोली- मेरे मम्मों पर पानी निकाल दो. उसने मुझे अपने ऊपर लिया और लंड को मुठ मारने लगी. मेरा रस निकलने वाला था, मैंने उसके मम्मों को ज़ोर से पकड़ा और सारा माल उसके हाथ और मम्मों पर गिरा दिया. अब मैं थोड़ा रिलेक्स फील कर रहा था.

मैं उसकी टांगों पर बैठ गया. वो मेरी मलाई से अपने मम्मों की मालिश कर रही थी. मैं उसकी चिकनी चुत को देख रहा था और धीरे एक उंगली चुत पर लगा कर रगड़ने लगा. वो पूरे जोश में आ गई थी. मैंने चूत को ज़ोर से रगड़ना शुरू कर दिया, वो सेक्सी आवाजें निकालने लगी. अब शायद वो चरम सीमा पर थी. मैंने उसके दोनों पैर फैला दिए और 69 में आ गया. वो मेरा लंड अपने मम्मे ज़ोर से रगड़ने लगी.

मैंने पहली बार किसी चुत को चूमा.. उधर वो चूत पर मेरी जीभ का अहसास करते ही सिहर उठी- आऊऊआईईई.. आआहह.. सक मी..ईए आहआओ..

मैंने उसकी चुत में अपनी जीभ डाल दी और चुत का स्वाद लेने लगा. मेरा लंड फिर से टाइट हो गया. मैंने चूत चुसाई करते हुए उसकी गांड के छेद में फिंगरिंग शुरू कर दी.

ये उसके लिए नया था तो अब कंट्रोल में नहीं रहा. उसने मेरे सिर को दोनों पैरों के बीच में ज़ोर दबा लिया और बोली- आह.. मेरा पानी पी लो.. मैं जोश में चूत चुसाई करने लगा, तभी उसकी चुत से बहुत सारा पानी निकल गया जो मैं सारा पी गया. चुत के पानी से ऐसा नशा हो गया कि मेरा लंड मूसल होने को था. वो थोड़ा ढीली पड़ गई. मैंने सीधे होकर मम्मों को किस करना शुरू कर दिया.

कुछ ही पलों में वो फिर से जोश में आ गई और बोली- आजा मेरे राजा चोद दे आज मेरी चुत को. इसने 10 साल से किसी का लंड नहीं लिया है. उसकी चुत बहुत टाइट थी.

उसने मुझे बॉडी लोशन दिया, साथ ही पहले मेरे लंड को अच्छे से लोशन लगा कर रेडी किया. फिर मैंने उसकी चुत को लोशन से चिकना किया.. थोड़ा लोशन चुत के अन्दर भी लगा दिया. अब वो चुदने को रेडी थी. मैंने पैर फैला कर लंड को चुत पर लगा दिया. चुत पर लगा लोशन मेरे लंड के सुपारे पर लग गया. मैंने एक झटके में पूरा लंड चुत में पेल दिया. शायद उसको थोड़ा दर्द हुआ. लेकिन सेक्स के आगे दर्द कुछ नहीं था मैंने धक्के लगाने शुरू कर दिए. उसके मुँह से गर्म साँसें और सेक्सी आवाजें निकलने लगीं ऊओ… जहहा आहह… मुउउहहा…

वो अपने हाथ मेरे चूतड़ों पर लगा के ज़ोर से झटके देने लगी. मुझे चुदाई में बहुत मजा आ रहा था. मुझे उसके चेहरे पर एक ख़ुशी दिखने लगी. वो मज़े से लंड ले रही थी, मैंने थोड़ा स्पीड बढ़ा दी, वो और सेक्सी आवाजें निकालने लगी.

अब वो मेरे शॉट का रिप्लाइ भी अपने चूतड़ उछाल कर देने लगी. करीब 15 मिनट तक घनघोर चुदाई चलती रही. वो झड़ने वाली थी, उसने अपनी चुत टाइट की तो मैंने स्पीड बढ़ा दी. उसका रस निकलने वाला था- ऊओखाअ ओहहा फक मी हार्ड.. मेरी चूत चोद दो और तेज.. चूत फाड़ दे.. ऊऊह.. आज.. आह मजा आ गया.. आअह.. इसके साथ वो झड़ गई.

लेकिन मेरा पानी अभी नहीं निकला था. मैं थोड़ा आराम करने उसके ऊपर ही लेटे लेटे उसके मम्मों को सक करने लगा. वो एक हाथ मेरे चूतड़ों पर और एक मेरे बालों में घुमाने लगी. कुछ मिनट बाद वो फिर रेडी हो गई.

अब वो मुझे चोदने को बोली. मैं नीचे हो गया और वो मेरे लंड पर बैठ गई. लंड सट से घुस गया. वो ऊपर नीचे होने लगी. मुझे बहुत मजा आ रहा था. मेरा पूरा लंड बाहर होता और पूरा लंड एकदम से चूत में अन्दर तक चला जाता. उसने भी चुदाई की स्पीड बढ़ा दी. उसके चूचे हवा में उछल रहे थे, बहुत सेक्सी लग़ रहे थे. मैंने दोनों हाथ से उसके चूतड़ों को पकड़ कर उठा उठा कर चुदाई का मजा करने लगा. कुछ ही देर में वो थोड़ा रिलेक्स करना चाह रही थी.. तो वो मेरे सीने पर किस करने लगी.

एक मिनट बाद फिर से शुरू हो गई. अब हमारी चुदाई को चलते काफी वक्त हो गया था. मेरे लंड से पानी निकलने वाला था. वो और तेज स्पीड के साथ चुदाई करने लगी. मेरा पानी उसकी चुत में निकल गया. उसने मुझे अपने ऊपर ले लिया.. मैं ऊपर लेटा रहा.. मेरा लंड ढीला हो गया. इस बार लंड ने बहुत पानी छोड़ा था. पानी सुमीना की चूत से निकल कर गांड के छिद्र तक चला गया.

मैं ऊपर से हट गया और उसकी चुत के सामने बैठ कर चुत को देखने लगा. वो और उसकी चूत बहुत खुश लग रही थी. पानी अब भी निकल कर गांड की तरफ़ जा रहा था. मैंने अपनी फिंगर पानी से गीली करके उसकी गांड में डाल दी. उसने हल्की सी ‘हुईईई..’ की आवाज़ की, लेकिन अब उसको मजा आने लगा. मैं अब एक फिंगर चुत में और एक गांड में डाल के हिलाने लगा.

उसको फिर सेक्स का जोश आने लगा. वो उठी और नीचे खड़ी हो गई, मुझसे बोली- अब पीछे से चुत चोदो. वो बेड पर झुक कर कुतिया बन गई जिससे उसकी चुत पीछे से खुली दिख रही थी.

मैंने निशाना लग़ा कर एक ही झटके लंड को चुत में उतार दिया. वो खुद पीछे झटका देने लगी और मैं लंड की ठोकर से उसकी चूत चोदने लगा. चुदाई की ये स्टाइल बहुत मजा दे रही थी. मैंने ज़ोर जोर से चुदाई शुरू कर दी.

वो ‘ऊओअ हहाअह हम.. मम्मुहहा.. चोद दे.. आआह मर गईईई फाड़ दे मेरी चूत.. आअह.. फास्ट..’ चिल्ला रही थी.

इससे मुझे और जोश आ गया. अब तो चुदाई का तूफान शुरू हो गया. पूरा रूम सेक्स की आवाजों से गूंजने लगा. करीब 25 मिनट के बाद हम दोनों का पानी निकलने पर आ गया. उसने जैसे ही अपनी चुत को थोड़ा टाइट किया, मेरा भी लंड झड़ने वाला हो गया. इस बार हम दोनों एक साथ झड़ गए.

वो लंड चूत में फंसाए हुए ही बाथरूम जाने को बोली. अब तक मेरा लंड चूत में फंसा था, लेकिन थोड़ा ढीला हो गया था. हम दोनों वॉश में आ गए. वो इसी पोजीशन में पानी के नल को पकड़ कर खड़ी थी. मैंने दो झटके मार दिए.. इससे जो आवाज़ आई उसे सुन कर बड़ा मजा आया. मैंने 10-15 झटके मार दिए लेकिन लंड टाइट नहीं हुआ.

हम अलग हो गए और फव्वारे के नीचे नहाने लगे. करीब एक बजने वाला था तो हमने वॉशरूम सेक्स नहीं किया. सुमीना की बेटी एक बजे लंच के लिए घर आती थी. हम दोनों नहा कर कपड़े पहन कर टीवी रूम में चले आए.

थोड़ी देर में उसकी बेटी आ गई. मैं टीवी देखता रहा. उसने बेटी को खाना दिया और मेरे साथ बातें करने लगी. लंच करते ही बेटी फिर से मुझे बाय अंकल बोल कर स्कूल चली गई.

वो किचन में कुछ कर रही थी. मैं फिर से उसके पास चला गया, लिप किस किया, वो मुस्कुरा रही थी. हम फिर से बेडरूम में आ गए. वो अभी लोवर तो टीशर्ट में थी, उसने नीच कुछ नहीं पहना था. हमने मोबाइल पर एक ब्लू फिल्म देखी. उसका लोवर चुत के पास से गीला हो गया तो मैंने लोवर उतार दिया. अब वो नीचे से नंगी थी और ऊपर टी शर्ट पहने थी. मैंने टी शर्ट के ऊपर से मम्मे मसल दिए.

एक ब्लू फिल्म पूरी हुई तो एक बार और चुदाई करने का मूड बन गया. वो मेरा लंड चूसने लगी. मेरा लंड फिर से चुत में जाने के लिए रेडी हो गया. इस बार मैंने उसको घोड़ी बना कर चोदने का प्लान बनाया था, लेकिन वो थक गई थी बोली- कल घोड़ी बना कर चोद लेना.. आज तुम मुझे ऊपर से चोदो.

मैं फिर से उसके ऊपर आ गया. इस बार मैंने चुत में लोशन नहीं लगाया, जबकि चुत थोड़ी सूखी थी. मैंने लंड को एक ही झटके में चुत में उतार दिया. उसकी आह निकल गई.

फिर चुदाई का खेल शुरू हो गया. रूम में सेक्सी आवाजें आने लगीं. मैं इस बार बिना रूके चुत में लंड पेले जा रहा था. वो चुदाई का मजा ले रही थी. करीब 30 मिनट तक चुदाई का खेल चला. उसकी चुत दो बार पानी निकाल चुकी थी.

अब तीसरी बार में उसके साथ मैं भी झड़ गया.. मेरा पानी कम निकला. मैं उसके ऊपर ही लेटा रहा. हम दोनों को नींद आ गई. करीब 4:30 पर मेरी आँख खुली. हम दोनों नंगे ही सो रहे थे. मैंने उसको किस किया तो उसने कुछ रिप्लाई नहीं किया. मैंने उसके मम्मों पर हाथ रख दिए और धीरे धीरे मसाज़ करने लगा.

उसकी नींद खुल गई.. उसने मुझे किस किया और बोली- अब तैयार हो जाते हैं.. मेरी बहन और बेटी का स्कूल से आने का टाइम हो रहा है.

अगले दिन रविवार था, मैंने रात में होटल में स्टे किया था, रात को घर रहना ठीक नहीं था. मैंने होटल में सबके साथ में खाना खाया और कमरे में चला गया. वो सब वापिस घर आ गए.

अगले दिन मैं सुबह नाश्ते के लिए घर आया, फिर होटल चला गया. आज के दिन हमारे बीच कुछ नहीं हुआ. शाम को फिर डिनर साथ में किया. सोमवार को फिर मैं घर आ गया. उसकी बहन और बेटी 8 बजे ही स्कूल चली गई. अब तक हम दोनों नहाये नहीं थे.

वो मेरे लिए दूध लाई तो मैंने उसको किस करते हुए कहा- मुझे तो आपका दूध ही पीना है.. उसने मम्मे आगे बढ़ाते हुए कहा- तो मना किसने किया है.. लो पी लो..

मैंने धीरे से उसके मम्मों को दबा दिया. वो स्माइल करके किचन में चली गई. मैं दूध पीकर बैठा ही था कि वो बोली- मैं नहाने जा रही हूँ. मैं भी उसका इशारा समझ गया और उसके साथ ही बाथरूम में घुस गया. हम दोनों ने कपड़े उतारे और फिर से शुरू हो गए.

पहले हमने फुव्वारे का मजा लिया. एक दूसरे को साबुन लगाने लगे. वो मेरे लंड से खेलने लगी और मैं मम्मों, चूतड़ों और चुत से खेल रहा था. बड़ा मजा आया बाथरूम में.. जब हम दोनों ने नहा लिया तो मैंने उसको घोड़ी बनने को कहा. वो अपने हाथों पर आगे हो कर घोड़ी बन गई और मैं पीछे से घोड़ा बन गया. मेरा लंड एकदम टाइट था.

मैं इस बार कुछ अलग करने की सोच रहा था लेकिन नहीं किया. अपने लंड को उसकी चुत में पीछे से पेल दिया. वो भी मस्त होकर चुदने लगी. मैं ज़ोर ज़ोर से झटके मारके उसे चोदने लगा. बहुत मजा आ रहा था.. बाथरूम में सेक्सी आवाजें गूँज रही थीं ‘ऊऊआ हहुई.. उम्म्ह… अहह… हय… याह… फक फक्कक मी आहहाआ आअहहाअ..’

मैं पूरे जोश में उसे चोद रहा था. वो एक बार झड़ चुकी थी. कुछ देर बाद मेरा भी लंड झड़ने वाला था. मैंने स्पीड तेज कर दी और पूरा पानी चुत में डाल कर उसके ऊपर घोड़े की तरह चढ़ गया. बाद में हम नहा कर बाहर आ गए. एक दूसरे को बॉडी लोशन से मसाज़ किया और मैंने बिना चड्डी के ही लोवर पहन लिया.. सुमीना ने नाइटी डाल ली.

अब सुमीना ने टीवी चला दिया और किचन में नाश्ते के लिए चली गई. हमने साथ में नाश्ता किया. मेरे वापिस जाने टाइम होने लगा. उसको बुरा लग रहा था. मैंने कहा- मैं वापिस जा रहा हूँ. वो कमरे में जाकर रोने लगी. मैंने उसे किस किया और वादा किया कि मैं तुमसे मिलने आता रहूँगा.

मैं वापिस चला गया.. लेकिन हमारी चुदाई व्हाटसैप और फोन पर होती रहती है.

अब एक साल से हमने चुदाई नहीं की है. लेकिन क्या करूँ जॉब ही ऐसा है कि टाइम मिलता ही नहीं है. आपको मेरी सच्ची एडल्ट स्टोरी कैसी लगी? मुझे मेल करें! [email protected]