जयपुर की भाभी की चुदाई

हेलो एक डी के प्यारे मित्रों। आपका बहुत धन्यवाद। तो सबसे पहले दोस्तों मुझे आपको अपना नाम ही बताना है।

मेरा नाम समीर है और मैं कानपुर का रहने वाला हूं। मेरी उम्र २७ है। मैं एमबीए सेकंड ईयर में हूं ये मेरी पहली सच्ची स्टोरी है जो मैं आपको सुनाने जा रहा हूं।

बात उन दिनों की है जब मैं एक बार रेलवे के एक्ज़ाम देने जयपुर गया हुआ था। जयपुर में मेरे दोस्त के बड़े भाई रहते थे वो मिलेट्री में थे उनके एक लड़का २ साल का था। मेरे दोस्त ने कहा कि तुम वहां पर रात रुककर सुबह एक्ज़ाम देकर वापस आ जाना मैं शाम को जयपुर पहुंच गया वहां मैने उनको अपना इन्ट्रोडक्शन दिया चूंकि बात पहले ही हो चुकी थी इसलिये ज्यादा परिचय नहीं देना पड़ा।

जब मैं गया, उस समय भैया एक हफ़्ते से ड्युटी गये हुये थे भाभी ने मुझे बाहर कमरे में बिठाया और चाय बनाने किचन में चली गयी थोड़ी देर बाद चाय पीकर मैने बाहर जाने का प्लान बनाया तो उन्होंने कहा कि मैं भी तुम्हारे साथ चलती हूं मुझे भी कुछ सामान लेना है। रास्ते में वो मुझसे काफ़ी खुली हुई बातचीत कर रही थीं मैं थोड़ा सहज हो गया था।

रात में उन्होंने मेरी पसंद की सब्जी बनायी फिर हम दोनो ने साथ मिलकर खाना खाया मैने कहा भाभी मैं तो सोने जा रहा हूं उन्होंने कहा चलो कुछ देर मूवी देखते हैं उन्होंने पहले से ही बी एफ़ लगा रखी थी जैसे ही प्लेयर ओन हुआ मूवी चलने लगी मैने कहा भाभी तुम ऐसी फ़िल्म देखती हो उन्होंने कहा क्या करूं तुम्हारे भैया तो महीनों बाहर रहते हैं मुझे इसी से काम चलाना पड़ता है

मैने कहा कि तुम चिन्ता मत करो मैं तुम्हें आज वो सुख दूंगा जो तुम्हें कभी नहीं मिला मैने ये कहकर उनको बिस्तर पर ही चूमना शुरु कर दिया धीरे-२ वो भी मेरा साथ देने लगीं मैने उनके सारे कपड़े उतार कर उन्हें नंगी कर दिया वाह क्या फ़ीगर था उनका केले की तरह चिकनी जांघें और उस पर पाव रोटी की तरह फूली बुर मैने उनकी बुर में ज्यों ही होंठ लगाया वो चिल्ला पड़ी मैने करीबन २० मिनट तक उनकी चूत चूसी फिर मैने अपने कपड़े भी उतार दिये और वो मेरे लंड को चूसने लगीं फिर मैने उनको सीधा लिटा दिया और अपना लंड उनकी चूत में डालकर करीबन ४० मिनट तक उनकी चुदाई की। उन्होंने कहा कि उन्हें आज तक ऐसा सुख कभी नहीं मिला हमने रात भर खुलकर सेक्स किया वो मुझसे काफ़ी सन्तुष्ट दिखीं

मैने दूसरे दिन एक्ज़ाम के बाद उन्हें फिर दो बार चोदा।