Makan malik ki beti ki chut bajai

Hindi sex story and chudai ki kahani.

Ye kahani hai mere makan malik ki beti aur mere bare me.

दोस्तो, मेरा नाम रितेश है, मै अब चंडीगढ़, मे रहता हूँ, वैसे मै पंजाब के एक छोटे से गांव का रहनें वाला हूँ और एक बहुत ही गरीब परिवार से हूँ।
मै सेक्सस्टोरीजHD की कहानियाँ, जो कि बेहद रोचक होती हैं, हर रोज पढ़ता हूँ, मुझे ये कहानियाँ बहुत पसंद हैं, मुझे लगा कि मुझे भी अपनी कहानी भेजनी चाहिए। तो आज आप सबके लिए अपनी कहानी भेज रहा हूँ।

जैसे कि मैनें बताया के मै एक गरीब परिवार से हूँ और ऊपर से मेरा कद भी कम है। सिर्फ 5’4″ इंच, शरीर भी पतला है। शायद यही वजह थी कि मेरी आज तक किसी भी लड़की से सेटिंग नहीं हो पाई थी।
दूसरा मै शर्मीले स्वभाव का हूँ तो ये भी कारण था कि मै किसी लड़की को दोस्ती के लिए पूछ ही नहीं पाया। तो भला गर्लफ्रेंड कहाँ से बनती।

भगवान अगर एक कमी देता है। तो एक खासियत भी देता है। दोस्तो, बताना चाहूँगा कि भगवान नें मुझे लौड़ा मस्त दिया है। लगभग 7.5 इंच लंबा और मोटाई भी 2 इंच से ज्यादा है।
पहले पहल तो मै इसे छोटा समझता था। पर मुझे कुछ दिन पहले ही पता चला कि ये लड़कियों के लिए काफी बड़ा है।

मै एक किराए के कमरे मे रहता हूँ, मेरे साथ एक और लड़का मेरे साथ रहता है, वो जॉब करता है और सुबह 6 बजे ही अपनी ड्यूटी पर चला जाता है।
उस दिन भी वो सुबह:-सुबह अपनी ड्यूटी पर चला गया। पर वो मुझे उठाना भूल गया था। कमरे का दरवाजा भी खुला ही पड़ा था। पी.जी. मे ज्यादातर पढ़नें वाले लड़के ही थे। जो अब पेपर हो जानें की वजह से अपनें:-अपनें घर गए हुए थे। इस कारण लगभग सारे कमरे खाली पड़े थे।

शादी में आई लड़की की प्यासी चुत की चुदाई

हमारा मकान:-मालिक बहुत शरीफ आदमी है। उसके परिवार मे उसकी बीवी और दो बेटियाँ हैं। बड़ी बेटी की शादी हो चुकी है और छोटी बेटी घर पर ही रहती है। छोटी बेटी थी भी क़यामत। उसको देखते ही मेरे दिल की धड़कनेंं राजधानी एक्सप्रेस की तरह चलनें लगती थीं। पर मै बोला कुछ नहीं पाता था। वो मुझसे लंबी है। उसका 5’7″ इन्च का कद। दूध जैसा गोरा:-चिट्टा रंग। छोटे:-छोटे पर एकदम गोल:-गोल चूचियाँ। सब मिला कर वो एक मस्त माल है।

उस दिन मकान:-मालिक कहीं बाहर गया हुआ था। और सिर्फ वो क़यामत ही घर पर थी।
मकान:-मालिक के ना होनें के कारण उस दिन वो ही ऊपर चक्कर लगानें आ गई। गर्मी की वजह से मै सिर्फ अंडरवियर पहन कर सोता हूँ।

लड़कों को तो पता ही होगा कि सुबह सुबह की नींद कितनी प्यारी होती है और साथ ही सुबह:-सुबह लौड़ा भी तन कर खड़ा होता है।

उसनें दरवाजा खटखटाया। पर मुझे पता नहीं चला, वो खुद ही अन्दर आ गई।
बड़ा लौड़ा लड़कियों की कमजोरी होती है, जब उसनें मेरा देखा तो उसकी भी हालत खराब हो गई, उसनें दरवाजा बंद किया और आकर मेरे पलंग पर बैठ गई।

Baap beti ki chudai story

थोड़ी देर बाद मुझे कुछ महसूस हुआ, आँख खुली तो मै ये देख कर डर गया कि उसनें मेरा अंडरवियर थोड़ा नीचे किया हुआ था और मेरे लौड़ा को बड़े प्यार से सहला रही थी।
मै जल्दी उठा और अपना अंडरवियर झट से ऊपर कर लिया और ऊपर लेनें के लिए चादर ढूंढनें लगा:- अरे आप। आप यहाँ कैसे? और ये आप क्या कर रही हो?
मैनें हकलाते हुए पूछा।

‘डरो मत,, आराम से बैठ जाओ।’ उसनें मुझे डरा हुआ देखा तो बोली और उसनें मेरा हाथ पकड़ कर अपनें पास बैठा लिया।
‘आप यहाँ कैसे?’
‘यार आज घर पर कोई नहीं था तो पापा नें मुझे बोला था कि मै सुबह:-सुबह ऊपर जा कर देख आऊँ।’ उसनें जवाब दिया।

‘वो तो ठीक है। पर आप ये क्या कर रही थीं?’
अब वो थोड़ा घबराते हुए बोली:- मुझे माफ कर दो यार,, मैनें दरवाजा तो खटखटाया था। पर तुम उठे ही नहीं,, मै अन्दर आई तो तुम्हारा हथियार खड़ा था और मैनें आज तक इतना बड़ा किसी का नहीं देखा है,, बस मै अपनें आपको रोक नहीं पाई,, प्लीज मुझे माफ कर दो।’
‘कोई बात नहीं,, माफ़ी तो मुझे माँगनी चाहिए। मैनें दरवाजा बंद जो नहीं किया था।’

‘इसका तो मुझे फ़ायदा ही हुआ,, मैनें तुम्हारा इतना बड़ा ये देख लिया,, क्या मै इसे दुबारा देख सकती हूँ?’
‘अगर आपकी फैमिली मे किसी को पता चल गया तो?’
‘तुम उसकी टेंशन मत लो,, आज शाम तक कोई नहीं आएगा,, घर पर कोई है ही नहीं।’ उसनें अपना इरादा साफ़ कर दिया था।
‘पर फिर भी।!’

वो मिन्नत करनें लगी:- प्लीज। मैनें जबसे इसे देखा है। मै अपनें आपको रोक नहीं पा रही हूँ। प्लीज दिखा दो ना। मै आज इससे खेलना चाहती हूँ।’
‘पर आप तो मुझे बड़ी भी हैं और लंबी भी।’
‘तो क्या हुआ,, प्लीज दिखा दो ना।’
यह कहानी आप सेक्सस्टोरीजHD डॉट कॉम पर पढ़ रहे हैं !

pados ki aunty ki chudai chut ki

लड़की मिन्नत करे और लड़का ना मानें ऐसा तो कभी हो ही नहीं सकता।
मै भी ढीला पड़ गया, मैनें कहा:- दिखा दूँगा। पर एक शर्त है। तुम्हें इसे इसका नाम लेकर बुलाना होगा।
वो झट से बोली:- प्लीज अपना लौड़ा दिखाओ।

  • मैन अपना अंडरवियर उतार दिया
  • लौड़ा देखते ही वो मदहोश हो गई और मेरे
  • लौड़ा को पकड़ कर सहलानें लगी:- इसे
  • किस कर लूँ क्या।?
  • उसनें बड़े प्यार से पूछा।

मै भला कैसे मना कर सकता था, मैनें ‘हाँ’ मे सिर हिला दिया।
किस करनें के बाद वो बोली:- मै इसे चूस लूँ क्या?
मेरा सिर ‘हाँ’ मे हिलाते ही वो लौड़ा को अपनें मुँह मे भर कर चूसनें लगी, वो जोर:-जोर से मेरा लौड़ा चूस रही थी। मेरा ये पहली बार था और वो चूस भी बहुत मस्त रही थी। इसीलिए मै तो 3:-4 मिनट मे ही खलास होनें वाला हो गया।

मैनें उसको बताया तो वो बोली:- मुँह मे ही निकाल दो। मै इसे वेस्ट नहीं करना चाहती।
कुछ सेकंड्स के बाद ही मेरा सारा पानी उसके मुँह मे निकल गया और मै ढीला पड़ गया।
अब तक उसको भी पता चल गया था कि मै इस खेल मे नया हूँ, अब तो हर तरह से पहल उसे ही करनी थी।

उसनें मेरे होंठों पर होंठ रख दिए और चूसनें लगी, मै भी धीरे:-धीरे उसके होंठ चूसनें लगा।
उसनें मेरा हाथ पकड़ कर अपनी टी:-शर्ट के ऊपर से ही अपनी चूचियों पर रख दिया, मै उसकी मुलायम और नरम चूचियों को मसलनें लगा।
मै बता नहीं सकता कि मुझे कितना मज़ा आ रहा था।

उसनें सिर्फ टी:-शर्ट और लोवर ही पहना हुआ था और अन्दर कुछ भी नहीं था, मैनें हिम्मत करते हुए उसकी टी:-शर्ट उतार दी।
उसनें कुछ नहीं कहा बल्कि अपनी गोल:-गोल चूचियों को उभार कर मेरे सामनें कर दिया।

मेरे लिए अपनें आपको रोक पाना अब नामुमकिन था, मैनें उसकी चूचियों को अपनें हाथों मे भर लिया और उससे बोला:- वाह मेरी जान,, ये चूचे तो बहुत अच्छे हैं,, दिल करता है इनका सारा दूध चूस जाऊँ।’
‘अबे लल्लू,, तो चूस डाल ना,, आज तो सब कुछ तुम्हारा है,,जो मर्जी करो।’

मै उसकी चूचियों को बारी:-बारी से चूसनें और दबानें लगा, उसकी सिसकारियाँ कमरे मे गूंजनें लगी थीं।

मैनें बहुत सी ब्लू:-फ़िल्मे देख रखी थीं। मैनें उस अनुभव का प्रयोग करना शुरू कर दिया और नीचे की ओर बढ़नें लगा। उसके गोरे:-गोरे बदन को चूमते हुए मै नीचे उसके लोवर तक पहुँच गया, मैनें उसका लोवर खोलना शुरू कर दिया, उसनें भी अपनें चिकनें चुतड़ उठा कर लोवर निकालनें मे मेरा साथ दिया।

लोवर उतारते ही उसकी चुत मेरे सामनें थी, मै पहली बार नंगी चुत साक्षात् देख रहा था, उसकी चुत गोरी:-गोरी और गुलाबी रंग की थी। उस पर एक भी बाल भी नहीं था। बिल्कुल चिकनी चुत थी।
उसनें बाद मे बताया था कि वो हर तीसरे दिन चुत के बाल साफ़ करती थी।

उसकी चुत मे से पानी निकल रहा था, मैनें अपनी जीभ उसकी चुत पर लगाई। तो वो कराहनें लगी और उसकी ‘आहें। सिसकारियाँ।’ कमरे मे गूंजनें लगीं।
मै जीभ को अन्दर तक ले जाकर चाट रहा था। यह मेरा पहला अनुभव था इसीलिए मुझे ज्यादा मज़ा तो नहीं आ रहा था। पर चुत की खुश्बू बहुत अच्छी लग रही थी।

मेरे चुत के चाटनें से वो करीब पाँच मिनट के बाद मेरे मुँह पर ही झड़ गई, नमकीन से स्वाद का पानी मुझे बहुत अच्छा लगा, मै उसकी चुत का सारा पानी चाट गया।

अब हम एक:-दूसरे के साथ लेट गए और एक:-दूसरे के अंगों से खेलनें लगे। थोड़ी ही देर मे वो चुदवानें के लिए तैयार हो गई और मेरे खड़े लौड़ा को पकड़ कर बोली:- मेरे राजा,, अब मेरी चुत की प्यास बुझा दो,, तुम्हारा लौड़ा देखनें के बाद मेरी चुत तुम्हारे मोटे लौड़ा को अन्दर लेनें के लिए फड़फड़ा रही है,, अब नहीं रहा जाता,, पेल दे जल्दी से अपना ये मोटा लौड़ा मेरी चुत मे,,

मुझ से भी अब बर्दाश्त नहीं हो रहा था। सो मै उसकी टाँगों के बीच मे गया और अपनें लौड़ा का सुपाड़ा उसकी चुत पर रगड़ा, उसनें मेरा लौड़ा पकड़ कर अपनी चुत पर टिका लिया और मैनें भी उसकी टाँगें उठा कर अपनें कन्धों पर रख ली।

मै चुदाई के मामले मे नया था। तो जैसे ही मैनें धक्का मारा। तो लौड़ा अपनी जगह से खिसक गया।
मैनें फिर से कोशिश की। तो इस बार मेरा सुपाड़ा चुत को भेदता हुआ अन्दर चला गया और साथ ही उसके मुँह से चीख निकल गई। मैनें उसके मुँह पर हाथ रख कर उसकी चीख को दबाया।
जब हाथ उठाया तो बोली:- ओह्ह। बहुत मोटा है। थोड़ा धीरे:-धीरे करो यार,, तुम्हारा लौड़ा बहुत बड़ा भी है।

लौड़ा की तारीफ सुन कर मै बहुत खुश हुआ, मैनें थोड़ी देर रुक कर एक और धक्का लगा कर लौड़ा को अन्दर तक सरका दिया, उसे बहुत दर्द हो रहा था।

मै रुक:-रुक कर उसके होंठ चूस रहा था और चूचियाँ मसल रहा था। कुछ देर बाद जब उसका दर्द कुछ कम हुआ तो जोरदार धक्के लगा कर मैनें पूरा लौड़ा उसकी चुत मे उतार दिया।
अब पूरा लौड़ा उसकी चुत मे समा गया। तो वो दर्द से कराहनें लगी। वो हर धक्के पर चीख रही थी।

मैनें उसके होंठ अपनें होंठों मे दबा रखे थे। जिससे उसकी चीख बाहर नहीं आ पा रही थी, दर्द के मारे उसकी आँखों से पानी निकल रहा था।

धीरे:-धीरे लौड़ा नें चुत मे अपनी जगह बना ली और अब उसको भी मज़ा आनें लगा। तो वो अपनें चुतड़ उठा:-उठा कर लौड़ा को अन्दर लेनें लगी।
मैनें धक्कों की स्पीड बढ़ा दी थी, अब वो भी मस्ती मे बड़बड़ानें लगी थी:- आह्ह,, राजा,, तूनें तो मेरी फाड़ दीईईई। उईईई माँ। आज तो गईई।

उसकी यह हालत देख कर मुझे और मज़ा आ रहा था, मै जोश मे जोर:-जोर से धक्के मार रहा था।
लगभग 6:-7 मिनट के बाद वो झड़नें वाली हुई। तो मुझसे बोली:- जोर:-जोर से फाड़ जानू। फाड़ दे आज मेरी। बुझा दे मेरी चुत की आग।’
ऐसे ही बड़बड़ाते हुए वो झड़ गई पर मै अपनें काम मे लगा रहा।

तभी उसनें मुझे रुकनें को कहा, मैनें पूछा:- क्या हुआ?
तो वो बोली:- अब मै ऊपर आती हूँ।
मैनें लौड़ा बाहर निकाला और नीचे लेट गया, वो ऊपर आकर धीरे से मेरे लौड़ा के ऊपर बैठ गई और अपनें चुतड़ ऊपर:-नीचे करनें लगी।

उसके चूचे हर धक्के के साथ ऊपर:-नीचे थिरक रहे थे, इस अदा मे वो और भी चुदाईी लग रही थी।
मैनें उसके चूचे पकड़ लिए और मसलनें लगा, वो पूरी मस्ती से लौड़ा के ऊपर कूद रही थी।

कुछ देर बाद मुझे लगा कि मेरा भी काम होनें वाला है। तो मैनें उसको बताया, वो झट से रुक कर नीचे आ गई और मुझे ऊपर ले लिया और बोली:- अभि। जानू। सारा माल मेरे अन्दर ही निकाल देना। मै तुम्हारे माल का पूरा मज़ा लेना चाहती हूँ,, जोर:-जोर से चोद कर डाल दे अपना सारा माल मेरी चुत मे।

 

उसी समय मैनें एक जोरदार धार के साथ उसके अन्दर पानी छोड़ना शुरू कर दिया, मेरे वीर्य से उसकी चुत लबालब भर गई थी।
मै थक कर उसके ऊपर ही लेट गया।
वीर्य की गर्मी से वो भी मेरे साथ एक बार फिर से झड़ गई थी, मै उसके ऊपर ही लेटा रहा।

उस दिन मै काम पर नहीं गया और हमनें दिन मे तीन बार चुदाई किया। उसके बाद भी बीस दि कई बार उसकी चुदाई कर चुका हूँ।
मै अपनें लौड़ा को हमेशा छोटा समझता था। पर उसनें मुझे बताया कि ज्यादातर लोगों का लौड़ा मेरे लौड़ा से छोटा होता है और मेरा लौड़ा किसी भी चुदक्कड़ औरत को भी ठंडा कर सकता है। तो मेरा हौसला बढ़ गया।

उसकी बात सुनकर मुझे जिगोलो बननें का ख़याल आनें लगा। सोचा कि जब लौड़ा शानदार है। तो क्यों ना प्रयोग करके कुछ कमाई की जाए। मजा का मजा और पैसे का पैसा।

Add a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *