मामी को अपना तना हुवा लण्ड दिखा दिया

मैंने अपनी सगी मामी को अपना तना हुवा लण्ड दिखा दिया। हिंदी सेक्स स्टोरी, फिर किया हुवा आगे पढ़ें।मैं अन्तर्वासना में पहली बार चुदाई की कहानी लिख रहा हूँ कि मैंने अपनी मामी की चुदाई कैसे की.. मुझसे कुछ गलती हो जाए तो माफ़ी चाहता हूँ।
दोस्तो मेरा नाम रोहन है.. मैं मुंबई से हूँ। मेरी उमर 20 साल है.. मेरे लंड का आकार 6.9 इंच लम्बा और 3 इंच मोटा है.. दिखने में मैं अच्छा-खासा हूँ।

ये मेरी जिन्दगी की एक खूबसूरत कहानी है। बात तब की है.. जब मैं जवान हुआ ही था, मेरी मामी मुंबई आई थीं। मेरे मामा, मामी को हमारे यहाँ छोड़ कर वापस अपने गांव चले गए। मेरी मामी मुझसे बहुत हंसी-मजाक करती थीं। मैंने उन्हें मेरी गर्लफ्रेंड के बारे में बताया तो उन्होंने पहले तो मुझे उसके नाम से खूब छेड़ा.. फिर बाद में मैंने मामी को बताया कि मैंने उसे किस की है.. तो वो सिर्फ होंठ दबा कर हंस कर चली गईं।

मुझे कुछ अजीब लगा उनकी इस हंसी में कुछ अजीब सी बात थी।

कुछ दिन ऐसे ही हंसी-मजाक में चले गए।

एक दिन मेरी माँ और पिताजी बाहर गए हुए थे मेरे घर में मैं और मेरी मामी ही बचे थे। मैं सुबह उठा और देखा तो मेरी हालत खराब हो गई। मेरी पूरी आंखें खुली भी नहीं थीं। मैंने देखा कि मेरी मामी नहा कर बाहर आई थीं और कपड़े पहनने मेरे रूम में आई थीं।

मैंने जानबूझ कर अपनी आँखें बंद रखी थीं। घर पर चूंकि मेरे सिवा कोई नहीं था तो शायद मामी नंगी सिर्फ तौलिया लपेट कर बाहर आ गई थीं।

शायद मामी को यह नहीं पता था कि मैं जगा हुआ हूँ, तभी मामी ने अपना तौलिया निकाल दिया।

मैंने चोरी से देखा कि मेरी मामी ने ब्रा और पेंटी भी नहीं पहनी थी, मामी पूरी नंगी थी, मैं सोने का नाटक करता हुआ सब मजा ले रहा था। मामी ने धीरे-धीरे तौलिया से अपने चूचे साफ किए। फ़िर अपनी चुत को धीरे-धीरे रगड़ कर साफ किया।

जब वो अपनी चुत को साफ़ कर रही थीं.. तो उनके मुँह से अजीब सी आवाजें आ रही थीं।

मैंने भी इस मौके का फ़ायदा उठाने का सोचा। मैंने धीरे से अपना 7 इंच बड़ा लंड शार्ट्स से बाहर निकाला और ऐसे ही खुला छोड़ दिया ताकि मेरी मामी मेरा लंड देख सकें।

मामी ने अपनी ब्रा-पेंटी पहनी और मैं सोया हूँ कि नहीं, ये देखने के लिए मेरी तरफ़ मुड़ीं, उनकी आँखें सीधा मेरे लंड पर पड़ीं।

मामी की इस हरकत को मैं देख रहा हूँ.. ये उन्हें पता नहीं था। मामी वैसे ही ब्रा-पेंटी में मेरे पास आईं, मेरे लंड को पास से देखने लगीं।

अब वो मुझे उठा कर देखने की कोशिश करने लगीं.. शायद वो देखना चाहती थीं कि मैं जगा हूँ या नहीं।
पर मैंने कोई हरकत नहीं की, फ़िर मामी को कन्फर्म हुआ कि मैं सोया हूँ। तो मामी ने धीरे से मेरे लंड को पकड़ा और उसे ऊपर-नीचे करने लगीं।

मुझे तो जन्नत मिल गई थी, मैं आंख बंद करके सब मजा ले रहा था। मामी ने अपना एक हाथ पेंटी में डाला और अपनी चुत का दाना रगड़ने लगीं। कोई 5 मिनट तक ऐसे ही चलता रहा। फ़िर मामी का शायद पानी निकल गया, तो वो पूरे कपड़े पहन कर बाहर चली गईं।

मैंने भी मामी के बाहर जाने के बाद मुठ मार कर अपना पानी निकाल दिया।

फिर कुछ देर बाद मैं उठा, मामी के साथ नाश्ता करने लगा। मामी की नजरें अभी तक मेरे लंड के बारे में सोच रही थीं। उनका बर्ताव मेरी तरफ़ कुछ अजीब लग रहा था।

अब मैंने भी मामी को चोदने का सोच लिया था।

मैं नहाने के लिए बाथरूम गया, तब मामी घर की साफ़-सफाई कर रही थीं। मैंने नहाते समय दरवाजा खुला छोड़ दिया ताकि मामी मुझे नंगा देख सकें। मैंने नहाते समय देखा मामी बार-बार बाथरूम के बाहर से आ-जा रही थीं।

मैंने सोचा यही मौका है, मैंने मामी को बोला- मामी मेरी पीठ पे साबुन लगा दीजिए।
मामी को जैसे जो चाहिए, मिल गया था। मामी फटाफट बाथरूम के अन्दर आईं साबुन मलने लगीं और मुझसे बात करने लगीं कि बचपन में मैं ही तुझे अच्छे से नहलाती थी।

ये सब बात करते-करते उनका हाथ मेरे पेट पर आ रहा था और पेट से नीचे मेरी झांटों को मल रहा था। मुझे मजा आ रहा था.. और मेरा लंड धीरे-धीरे खड़ा हो रहा था। कुछ ही पलों में मेरा लंड मेरी चड्डी से बाहर आ गया।
मैंने ऐसा दिखाया कि जैसे मुझे कुछ पता ही नहीं चला हो। मैंने देखा मेरी मामी की नजरें मेरे लंड को देख रही थीं।

मामी ने मुझे मजाक में पूछा- ये क्या है.. इतना बड़ा?
मैंने भी मजाक में मामी को बोला- जो मामा के पास है वो ही है।
मामी ने मेरे लंड पर हाथ रख कर बोला- अरे तेरे मामा का इससे बहुत छोटा है, मैं तो पहली बार इतना बड़ा देख रही हूँ।

मैंने सोचा कि अब बहुत हो गया अब रुका नहीं जाता। मैंने भी मामी को बोल दिया- मामी सिर्फ देखोगी या लोगी भी?

मुझे ऐसे बात करते सुनकर मामी के होश उड़ गए।
मैंने सीधा उन्हें नीचे खींचा और पानी में गिरा दिया। मैं उनको किस करने लगा, पहले तो उन्होंने रोका फ़िर वो भी साथ देने लग गईं।

जल्द ही उन्होंने मेरा लंड मुँह में ले लिया और जोर-जोर से चूसने लगीं। मामी ने इतना जोर से चूसा कि मेरा लंड पूरा खड़ा हो गया। कुछ ही देर में मैं उनके मुँह में ही झड़ गया। उन्होंने भी मेरा सारा वीर्य पी लिया।

फ़िर मैं उन्हें बेडरूम में लेकर गया, उनके सारे कपड़े उतार दिए, अब मामी सर्फ ब्रा और पेंटी में थीं।
मैंने जैसे ही उनकी ब्रा खोली.. उनके मस्त और गोरे-गोरे चूचे बाहर उछल कर आ गए, मैंने उन्हें मुँह में लेकर उनके निप्पल चूसने लगा, वो जोर-जोर से चिल्लाने लगीं.. लेकिन मैं रुका ही नहीं।
फ़िर मैं उनके पेट को चूमते हुए चुत को किस करने लगा, उनका दाना मुँह में लेकर रगड़ने लगा।
मामी मेरा लंड मुँह में लेकर चूसने लगीं, मेरा लंड दोबारा खड़ा हो गया।

अब मामी ने मुझे कुछ बोलने का मौका ही नहीं दिया.. फटाक से वो मेरे ऊपर आ गईं और मेरे लंड के ऊपर बैठ कर अपनी चुत में मेरा लंड सैट कर लिया। अब मामी थोड़ा सा झटका देने के साथ ही लंड का कुछ हिस्सा उनकी चुत के अन्दर चला गया। लंड घुसते ही उनकी चीख निकल पड़ी- ओह आ.. आआह रोहन कितना बड़ा लंड है तेरा.. उम्म्ह… अहह… हय… याह… मैं तो पूरा लंड अन्दर लेके मर ही जाऊंगी ऊह ऊ आह कम ऑन फक मी रोहन..!

मैंने अपना लंड थोड़ा और अन्दर डाला और उनको कुछ देर पेला तो उनका पानी निकल गया और वो मेरे ऊपर ही गिर गईं। मैं समझ गया कि मामी झड़ गई हैं.. शायद बहुत दिनों बाद चुद रही हैं।
मैंने उनको अपने नीचे लिया और मैं उनके ऊपर चढ़ गया। मैं मामी की चुत का पानी चाट कर साफ़ करने लगा।

मामी चुत चटवाने से फिर से मूड में आने लगीं। मैंने भी देर ना करते हुए लंड वापस उनकी फुद्दी में पेल दिया। एक ही झटके में मेरा पूरा लंड चूत के अन्दर चला गया। मैंने 2-4 झटके जोर से लगाए तो वो जोर-जोर से चिल्लाने लगीं और गालियां देने लगीं- चोद मादरचोद अपनी मामी को चोद.. और जोर से चोद..

मैंने उनके मम्मों को जोर-जोर से दबाते हुए जोर-जोर से झटके मारे। बस 10 मिनट की जोरदार चुदाई के बाद मैं मामी की चूत के अन्दर ही झड़ गया। मामी अब तक दो बार झड़ चुकी थीं। मैंने अपना लंड ऐसे ही मामी की चूत के अन्दर रख के लेट गया.. मुझे पता ही नहीं चला कि कब मेरी नींद लग गई। फिर कब रात हो गई मुझे कुछ होश ही था।

सुबह जब मैं उठा तो देखा मामी खाना खाने बुला रही थीं और उनके चेहरे पर अभी भी सेक्स की मस्ती थी। फ़िर हमने खाना खाते हुए भी चुदाई की। अगले दिन मेरे माता-पिता आ गए।

इसके बाद हम दोनों को जब भी मौका मिलता था.. हम दोनों खूब चुदाई करते थे।

अब मामी अपने घर वापस चली गईं.. तो चुदाई करने का कम मौका मिलता है।

Add a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *